प्रवासी श्रमिकों से राहुल गांधी की मुलाकात को वित्त मंत्री ने बताया ड्रामा, कांग्रेस बोली- दर्द बांटना अपराध है तो हम करेंगे

फाइल फोटो

कोरोना लॉकडाउन में प्रवासी श्रमिकों से राहुल गांधी के मिलने और उनका हालचाल जानने को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के ड्रामा बताने पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है ।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण राहत के मरहम की बजाय घाव पर नमक छिड़कना बंद करें । ये मजदूर हैं, मजबूर नहीं । मज़दूर की बेबसी आपको ड्रामेबाजी लगती है? नंगे पांव में पड़े सैकड़ों छाले ड्रामेबाज़ी दिखती है?

सुरजेवाला ने कहा, ‘भूखे प्यासे चलते जाने की व्यथा ड्रामेबाजी है? 135 मज़दूरों की मौत आपको ड्रामेबाज़ी लगती है? मजदूरों का घोर अपमान किया है संवेदनहीन सरकार मजदूरों से माफी मांगे । राहुल जी उनका दर्द बांटने गए थे । दर्द बांटना अपराध है तो हम करेंगे । अंधी बहरी सरकारों को जगाना अपराध है, तो हम करेंगे।’

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि ड्रामेबाजी वो थी जब मोदी ने वोट लेने के लिए मजदूरों के पांव धोने का स्वांग किया था ।ड्रामेबाज़ी वो थी जब हवाई चप्पल पहनने वाले व्यक्ति को हवाई जहाज में बिठाने का वादा कर सत्ता हथियाई थी । देश का मेहनतकश आपको कभी माफ नहीं करेगा ।

असल में, दिल्ली के सुखदेव विहार में राहुल गांधी के मजदूरों से मुलाकात करने पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सड़क पर बैठकर बात करने से मजदूरों की समस्या का हल नहीं होगा ।

आर्थिक पैकेज की आखिरी किश्त की जानकारी देने के बाद निर्मला सीतारमण ने रविवार को कहा कि कांग्रेस शासित राज्य ज्यादा से ज्यादा ट्रेनों की मांग क्यों नहीं कर रहे हैं? आखिर वे ज्यादा ट्रेन लेकर मजदूरों को सुरक्षित तरीके से उनके घर क्यों नहीं भेज रहे हैं ।

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि मजदूरों के साथ बैठकर बातें करने से क्या होगा, मजदूरों के साथ बैठकर बातें करने के बजाय राहुल गांधी अपने मुख्यमंत्रियों को ज्यादा ट्रेनों के लिए क्यों नहीं कह रहे हैं, क्या ये ड्रामा नहीं है ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!