मंत्री तथा प्रमुख सचिव, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग द्वारा वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से की गयी जनपदवार समीक्षा

दीनदयाल शास्त्री ब्यूरो

पीलीभीत। चीनी मिलवार पेराई सत्र की प्रगति, गन्ना री-सर्वे तथा फीडिंग की स्थिति, क्षमता अनुरूप चीनी मिलो के संचालन तथा आगामी पेराई सत्र हेतु गन्ना क्षेत्र सर्वेक्षण की समीक्षा।

सम्पूर्ण पेराई योग्य गन्ने की खरीद/आपूर्ति के पश्चात ही बन्द होगी चीनी मिले।

पीलीभीत गन्ना विकास विभाग एवं चीनी उद्योग उत्तर प्रदेश के मंत्री सुरेश राणा तथा प्रमुख सचिव संजय आर भूसरेडडी द्वारा चीनी मिलों के संचालन, पेराई सत्र की प्रगति, खडे गन्ने के री-सर्वे तथा फीडिंग की स्थिति, चीनी मिलों के क्षमता अनुरूप संचालन, आगामी पेराई सत्र हेतु गन्ना क्षेत्र सर्वेक्षण की स्थिति तथा गन्ना मूल्य एवं अंशदान के चीनी मिलवार भुगतान की जनपदवार समीक्षा की गयी। निर्देशित किया गया कि कृषकवार खडे गन्ने री सर्वे कराकर तदनुरूप आपूर्ति पर्चियाॅ निर्गत की जाये तथा यह सुनिश्चित किया जाये कि चीनी मिल क्षेत्र में उपलब्ध सम्पूर्ण पेराई योग्य गन्ने की आपूर्ति के पश्चात ही सम्बन्धित चीनी मिल का सत्रावसान हो। जनपद की चार चीनी मिलो में से पूरनपुर एवं बरखेडा चीनी मिल द्वारा आंवटित सम्पूर्ण पेराई योग्य गन्ने की खरीद कर सत्रावसान किया जा चुका है। उप गन्ना आयुक्त बरेली राजीव राय द्वारा समीक्षा के दौरान अवगत कराया गया कि वर्तमान में पेराई कर रही चीनी मिल बीसलपुर का 13 मई तथा चीनी मिल पीलीभीत की बन्दी 17-18 मई को सम्भावित है। जिले में अवशेष खडे गन्ने का शत-प्रतिशत री-सर्वे कराकर फीडिंग की जा चुकी है तथा आगामी पेराई सत्र हेतु गन्ना क्षेत्र सर्वेक्षण का कार्य पूरनपुर, बरखेडा एवं पीलीभीत क्षेत्र में प्रारम्भ हो चुका है। चीनी मिल पीलीभीत द्वारा 474.99 करोड़, बीसलपुर द्वारा 58.45 करोड़, पूरनपुर द्वारा 46.34 करोड़ तथा बरखेडा द्वारा 26.93 करोड़ गन्ना मूल्य भुगतान किया जा चुका है। जनपद की एल0एच0शुगर मिल द्वारा आज ही 12.27 करोड रूपये का गन्ना मूल्य भुगतान किया गया जो कि 14 मार्च 2020 तक का है। अधिक जानकारी के लिए जिला गन्ना अधिकारी से सम्पर्क करें।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!