1.80 हजार रुपए खर्च करके बस से अपने गांव पहुँचे 33 प्रवासी कामगार, किये गए होम क्वारंटाइन

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । सूरत गए कमाने के लिए 33 प्रवासी कामगारों को जब घर आने के लिए कोई साधन नहीं मिला तो उन्होंने एक लाख अस्सी हजार रुपये में एक बस बुक कर आज अपने गाँव पहुँचे। गांव पहुँचते ही ग्राम प्रधान सभी को तत्काल सीएचसी ले गए, जहां जांच कराने के बाद सभी को चिकित्सकों ने 28 दिन के लिए होम क्वारंटाइन रहने की हिदायत देते हुए घर को भेज दिया।
पटेहरा ब्लाक के संतनगर चौकी क्षेत्र के पनियरा घोरी गांव के 33 प्रवासी कामगार सूरत गुजरात में ड्राइंग पेंटिग का काम करने को गए थे, जिनके सामने लॉकडाउन के चलते सूरत में खाने के साथ-साथ नहाने व पीने के पानी की भीषण किल्लत हो गई थी। जब कोई साधन नहीं मिला तो किसी तरह विवश होकर एक प्राइवेट बस से 1.80 लाख खर्च करके सभी काम करने वाले अपने गांव पहुंचे। श्रमिक उमेश, शारदा, उमाशंकर एवं हरिशंकर आदि ने लॉकडाउन के संकट की कहानी सुनाई तो सभी के दंग रह गए और उन्हें खाना खिलाने के बाद कुछ देर आराम करने के बाद ग्राम प्रधान मनीष सिंह के साथ सभी लोगों को पीएचसी पटेहरा ले जाया गया। जहां डॉ0 प्रकाश चंद यादव द्वारा कोरोना से संबंधित चेकअप कर 28 दिन के लिए घर में ही रहने की हिदायत दी।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!