कोरोना के वार से छोटे दूकानदार परेशान

विनोद कुमार (संवाददाता)

– चाय, पान, मिठाई, खोमचे वालों को घर का खर्च चलाना हुआ मुश्किल

इलिया । कोरोना वायरस के कारण 44 दिन से चल रहे लाकडाउन के कारण मजदूर वर्ग काफी परेशान हो गया है। रोजी, रोजगार खत्म होने के कारण भूखों मरने की समस्या पैदा हो गयी थी। लेकिन सरकारी व समाजसेवियों के सहयोग से इनके घर के चूल्हे जलने लगे।लेकिन इन सब के बीच चाय, पान, मिठाई व खोमचे की दूकान से अपने परिवार का भरण पोषण करने वाले लोगों को अब लाकडाउन भारी पडने लगा है। कोरोना वायरस के कारण केन्द्र सरकार ने पुरे देश में धारा 144 लगाते हुए लाकडाउन लगा दिया एक साथ छोटी बड़ी संस्थाएं बंद हो गयी। लेकिन जरूरत के अनुसार सरकार ने धीरे-धीरे छूट देकर सब्जी, परचून, मेडिकल स्टोर के बाद अब मोबाइल, जनरल स्टोर, कपड़े की दूकान के साथ गिट्टी,बालू ,सीमेंट की दूकान भी खुल गयी।वहीं शराब प्रेमियों के तलब को देखते हुए मदीरा की दूकान भी खुल गये।लेकिन इन सब के अब भी चाय, पान, मिठाई की दूकान नहीं खुलने से इस कार्य में जूटे लोगों के सामने घर का खर्च चलाना मुस्किल हो रहा है।जिसके कारण इन कार्यों में जूटे लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है।इस धंधे से जूड़े बृजेश, भोला, गोपाल,राजू मोदनवाल, चन्द्रकला सहित दर्जनों लोगों का कहना था कि सरकार ने कहां कि हम जैसे छोटे दूकानदारों के बारे में भी जल्द जरूरी कदम उठाना चाहिए जिससे हम लोगों का जिविकोपार्जन हो सके नहीं तो हम लोगों को फिर सड़क पर उतरने को बाध्य होना पड़ेगा।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!