दूर कर लें कन्फ्यूजन, लॉकडाउन में चिन्हित दुकानें ही खुलेंगी- एडीएम

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में 3 मई तक लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन की वजह से कोरोना वायरस पर कंट्रोल तो हुआ, लेकिन देश की अर्थव्यवस्था रुक सी गई। लगातार एक महीने तक शटर डाउन रहने की वजह से कारोबारियों के सामने बेहद नाजुक स्थिति आ गई। किसानों-मजदूरों की हालत और खराब भी हो गई। वहीं समाचार चैनलों द्वारा प्रातः लगातार प्रसारित किये जा रहे खबरों जैसे- “सभी दुकाने आज से खुलेंगी” शीर्षक के कारण सोनभद्र जिले के सभी दुकानदारों में दुकान को खोले जाने को लेकर भ्रम की स्थिति पैदा हो गयी।

अपर जिला मजिस्ट्रेट योगेन्द्र बहादुर सिंह ने बताया कि “जिला प्रशासन द्वारा व्यापार मण्डल आदि के विभिन्न पदाधिकारियों से भी सम्पर्क किया और स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि जनपद में दुकानों को खोले जाने के बाबत जैसा न्यूज चैनल समाचार प्रसारित कर रहे हैं, अभी तक कोई अनुमति नहीं दी गयी है। राज्य सरकार के निर्णय और जिले की स्थिति के विचारोंपरान्त ही इस प्रकार का कोई निर्णय भविष्य में लिया जायेगा तथा जब भी निर्णय लिया जायेगा, जिले के नागरिकों के जानकारी के लिए मीडिया के माध्यम से उक्त निर्णय का प्रचार-प्रसार भी किया जायेगा, लिहाजा सभी दुकानें खोले जाने सम्बन्धी समाचार से उत्पन्न भ्रम से अवगत हो।”

सुबह से बाजारों में रही चहल-पहल

अन्य दिनों के मुकाबले आज बाजारों में दिखी चहल-पहल । कई इलेक्ट्रॉनिक दुकानों के अलावा बिजली मिस्त्री व बुक सेंटर भी आधे शटर के साथ खुले दिखे । हालांकि दुकानों पर भीड़ नहीं थी लेकिन जिस तरह से आज मीडिया में बात या रही थी कि दुकान खोलने का आदेश मिल चुका है, उसी क्रम में कुछ दुकानदार दुकानों को खोले थे ।

“सवाल यह उठता है कि जब जिला प्रशासन का कोई गाइड लाइन जारी नहीं हुआ तो आखिर दुकानें खुल कैसे रही हैं । लोगों का मानना हैं कि ज़ब कोई आदेश जिला प्रशासन ने दिया ही नहीं तो आखिर किसके आदेश से दुकानदार दुकानें खोल रहे हैं । उनका मानना है कि इतने दिनों तक बेहतर रिजल्ट देने वाला जनपद कहीं अंतिम समय में दागदार न हो जाये। बहरहाल प्रशासन को भी सख्ती बरकरार रखने की जरूरत है क्योंकि कहावत है कि अंत भला तो सब भला।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!