“कोरोना” ने दी भय, भूख व भविष्य की चिंता लॉक डाउन के बाद की समस्या

मनोहर कुमार (संवाददाता)
– सामाजिक दूरी बनी है मजबूरी लोग घरों में हैं कैद

डीडीयू नगर। कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए देश में लॉक डाउन किया गया है। लोगों को सामाजिक व शारीरिक दूरी बनाए रखने की सलाह दी गई है।इसका लोग फॉलो भी कर रहे हैं। भारत में दो चरणों में 40 दिन का लॉक डाउन किया गया है।इस बीच लोगों के रोजी रोजगार बन्द हैं। लोग भय, भूख व भविष्य की चिंताओं में खोए हैं। कोरोना का निदान हो जाएगा।लेकिन आने वाली समस्या से निपटना एक चुनौती होगी।
इस समय कोविड 19 (कोरोना वायरस ) से संसार के लगभग अधिकांश देश के नागरिक संक्रमित हैं। संक्रमण के इस दौर में लोग भयभीत हैं। भारत जैसे देश में कोरोना ने पांव पसार दिए है।यहां भी संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है। देश में लॉक डाउन किया गया है।दो चरणों के लॉक डाउन में एक चरण पूरा होआ गया है।दूसरा चरण तीन मई तक है।हालांकि सरकार लोगों को इस दौर में राहत देने का प्रयास कर रही है। लॉक डाउन के डाउन लगी पाबन्दी को शर्तों के साथ ढील दी जा रही है।इसमें समाजिक दूरी व मास्क लगाना अनिर्वाय किया गया है। लोग कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रभाव से वाकिफ हो गया हैं। इस संक्रमण काल के गुजर जाने के बाद उतपन्न समस्या एक चुनौती बन सकती है।लोग भय, भूख व भविष्य की चिन्ता में खोए हैं। भय इस बात का है कि लोगों को रोजगार की गारंटी मिलेगी की नहीं। जिन लोगों के यहां शादी व्याह की तारीखें तय थी वह टल रही हैं।लोगों के रोजगार बन्द हैं।यह कितना जोर पकड़ेगा। आने वाले समय मे आमदनी क्या होगी।इस समय लोग घरों में कैद हैं। भूख की पूर्ति किसी तरह हो रही है। सरकार व समाजसेवी संगठन पहुंच बराबर बना रहे हैं ।इसके बाद कि परिस्थितियों से किस तरह लोग निपटने में सक्षम होंगे। वहीं भविष्य की चिंता भी खाए जा रही है।लॉक डाउन तीन मई को खुलेगा।इस पर संशय है। सरकार परिस्थितियों व समय के अनुसार फैसला कर सकती है। हालांकि राहत की बात है कि कुछ मामलों में सरकार शर्त के अनुसार छूट दे रही है। बहुत से रोजगार ऐसे हैं जिस पर कई परिवार की रोजी रोटी निर्भर है। ऐसे में उन्हें भी अपनी भविष्य की चिंता है। बहरहाल कोरोना ने भय, भूख व भविष्य की चिंता तो बढ़ा ही दी है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!