MBBS की छात्राएं जागरुक करने के साथ ग्रामीणों को कर रहीं निःशुल्क इलाज

रमेश यादव (संवाददाता)

– विदेश में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही छात्राओं ने भारत आकर कोरोना से जागरुक करने का उठाया बीड़ा

– मेडिकल की छात्राओं की टीम में दो सगी सगी बहनें सहित पाँच लड़कियां हैं शामिल

– मेडिकल स्टोर व मास्क मेकरों द्वारा मेडिसिन व मास्क मुहैय्या करा की जा रही टीम की हौसला अफजाई

दुद्धी । बेटियों के पास भी पंख होते हैं,कभी उनके अरमान देखो,
एक मौका और थोड़ा सा हौसला दो,
फिर उनकी ऊँची उड़ान देखो। स्थानीय कस्बे की निवासिनी 5 ऐसी बेटियां जो कॅरोना के खिलाफ गुरुवार से जंग में कूद पड़ी हैं।भारत आकर 28 दिन सेल्फ क्वारनटाईन रहने के बाद शासन-प्रशासन के सहयोग में शुरू करने वाली जागरूकता अभियान के पहले दिन विकास खंड दुद्धी के धनौरा ग्राम पंचायत के कई टोले में जाकर कॅरोना बीमारी, इससे बचाव, क्वारनटाईन, सेल्फ आइसोलेशन, लॉक डाउन, सफाई, सोशल डिस्टेंसिंग आदि पर विस्तृत रूप से ग्रामीण महिला-पुरुषों को प्रकाश डालते हुए समझाया।इन 5 छात्राओं के दल में 4 एमबीबीएस और एक डी फार्मा की छात्रा शामिल है।
येरीवान स्टेट गवर्नमेंट मेडिकल यूनिवर्सिटी अर्मेनिआ से एमबीबीएस फाइनल ईयर की छात्रा दुद्धी सदर मु.शमीम अंसारी की बड़ी पुत्री ऐमन अंसारी ने बताया कि दुनिया के कई देशों में कोरोना के मरीज़ों की संख्या लगातार बढ़ रही है।विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है।चीन के वुहान से शुरू हुआ ये संक्रमण अब यूरोप और अमरीका में पैर पसार चुका है। इस समय सबसे ज़्यादा प्रभावित देश अमरीका है। यूरोप में इटली, स्पेन, फ़्रांस और ब्रिटेन इससे सबसे ज़्यादा प्रभावित हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 23 अप्रैल 2020 सुबह 8 बजे तक जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में मौजूदा मरीजों की संख्या बढ़कर 21,393 पर पहुंच चुकी है। जिनमें 77 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। इस संक्रमण से अब तक 681 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। पिछले 24 घंटों में 1,409 नए मामले सामने आये हैं और 41 लोगों की मौत हुई। जबकि देश भर में 4,257 मरीज ठीक हो चुके हैं।

यूनिवर्सल कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेस नेपाल से एमबीबीएस तृतीय वर्ष की छात्रा पूर्व चैयरमैन कमल कानू की सुपुत्री मुस्कान गुप्ता ग्रामीणों से मुखातिब होते हुए कहा कि शारीरिक दूरी का पालन करें। सब्जी खरीदते वक्त, दुकानों में या अन्य स्थानों पर भीड़ न लगाए और न ही भीड़ का हिस्सा बनें। मौके पर ग्रामीणों को कोविड-19 से बचने के लिए अनिवार्य रूप से अपने घर के अंदर रहने एवं बेहद जरूरी कार्य होने पर बाहर निकलते वक्त चेहरे को ढंककर निकलने के प्रति जागरूक किया गया।

युन्नान यूनिवर्सिटी ऑफ ट्रेडिशनल चाइनीस मेडिसिन चीन में एमबीबीएस तृतीय वर्ष की छात्रा सपा नेता जुबेर आलम की सुपुत्री शबनम परवीन ने गूगल के डू द फाइव पहल के तहत कोरोना वायरस से बचाव के 5 टिप्स देते हुए कहा कि ये टिप्स कोरोनो को फैलने से रोकेंगे। अपने हाथों को साफ करते रहें। खांसते या छींकते समय मुंह को ढंक लें। चेहरे को बार-बार न छुएं। लोगों से दूरी बनाकर रखें तथा बीमार महसूस करने पर घर से नहीं निकलें।
इस बिमारी से डरने के बजाय जागरूक होने की जरुरत है। सिर्फ एक चीज़ है जो कोरोना वायरस के बारे में जानने की ज़रुरत है वो है इसका फैलाव जब बीमार इन्सान खांसता या छींकता है तो पास खड़े स्वस्थ व्यक्ति तक बीमार व्यक्ति की छींक की बूंदे पहुँचने से बीमारी होती है। ऐसे समय आप दो से ढाई मीटर की दुरी पर रहें।

येरिवान स्टेट गवर्नमेंट मेडिकल यूनिवर्सिटी से एमबीबीएस द्वितीय वर्ष की छात्रा सदर मु.शमीम अंसारी की छोटी बेटी एरम अंसारी ने ग्रामीणों को जागरूक करते हुए बताया कि वायरस किसी भी चीज़ के ऊपर 48 घंटे तक रहते हैं तो आप उसे साबुन से धो कर ही उससे बच सकते है इसीलिए कुछ नियम है जिन्हे फॉलो करना ज़रूरी है। कोई भी जगह हाथ रखने के बाद या छूने के बाद अपने हाथ को कोहनी तक लगभग 20 सेकेण्ड तक धोये। पूरी तरह से हाथ धोने का मतलब हथेली के पीछे उंगुलियों के बीच में और नाखूनों के अन्दर भी साफ से धोये खांसते समय अपने कफ़ को टिश्यू में रख कर कूड़ेदान में फेंके।
अलीगढ़ से डी फार्मा की डिप्लोमा हासिल कर चुकी हाजी फैजुल्लाह की बेटी हबीबा खातून ने बताया कि मुंह में मास्क लगा कर रहे। मास्क भी बहुत देर तक लगा कर नहीं रखे क्यों की बहुत देर तक मास्क लगाने से मास्क में बैक्टीरिया आ जाते हैं, अगर हो सके तो मास्क के बाहरी हिस्से को न छुएं। अगर गलती से ऐसा हो गया तो चिंता की बात नहीं है आप हाथ धो सकते हैं
हेरिटेज वाराणसी से नर्सिंग कर चुकी विजयलक्ष्मी सिंह ने बताया कि जो बीमार है उन लोगो से न ज्यादा मिले न ही अपने पर्सनल सामान जैसे खाना, बर्तन और कप तौलिया शेयर करे अपना आँख नाक कान छूने से बचे अगर आप ज़रा भी बीमार महसूस कर रहें है तो डॉक्टर को दिखाएँ। सावधान रहिये सतर्क रखिये और खुश रहिये। अंत में जागरुकता दल को शंकर मेडिकल, हिन्द मेडिकल और ड्रग सेंटर जैसे दवा व्यवसाईयों द्वारा उपलब्ध कराया गया मेडिसिन, नगर के लाला बाबू, रज़ा श्रृंगार स्टोर के शहंशाह आदि प्रतिष्ठित संस्थानों द्वारा मुहैया कराया गया मास्क और ग्लब्स ग्रामीणों में निशुल्क वितरित किया गया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!