लॉकडाउन के दौरान भी जिला अस्पताल में दलाल सक्रिय, CCTV कैमरा बेअसर

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । लॉक डाउन के दौरान जहाँ एक तरफ जिला अस्पताल में ओपीडी सेवाएँ पूरी तरह से बंद हैं वहीं दूसरी ओर महाबन्दी में भी जिला अस्पताल परिसर में दलाल सक्रिय हैं और अपने काम को बखूबी अंजाम दे रहे हैं।

दलालों के चंगुल में फंसकर गरीब व आदिवासी मरीजों को भी निजी चिकित्सालयों में जाकर इलाज कराना पड़ रहा है और ये दलाल कोई और नहीं स्वयं ऑटो ड्राइवर हैं जो बेधड़क मरीजों को चिन्हित निजी हॉस्पिटल्स में पहुँचाते है और बदले में मोटी रकम वसूलते हैं।

आज ऐसा ही मामला जिला संयुक्त चिकित्सालय में उस वक्त देखने को मिला जब एक मरीज जो कुछ दिनों पूर्व जिला संयुक्त चिकित्सालय में भर्ती हुआ था, दलालों के बरगलाने पर अस्पताल के पीछे के रास्ते अपनी गोंद में उठाकर स्वयं ही लेकर दलालों द्वारा पहले से ही तय ऑटो में बैठा दिया गया। जब उससे इसके बारे में पूछा गया तो ऑटो ड्राइवर उलझ गया और वीडियो डिलीट करने के लिए दबाव बनाने लगा लेकिन जब ऑटो ड्राइवर को पता चला कि डिटेल पुछने वाला मीडियाकर्मी है तो उसके हाँथ-पाँव फूल गए और आनन-फानन में मरीज लेकर वहां से रफ्फू चक्कर हो गया।

वहीं पूरी घटना पर जब सीएमएस से बात करने का प्रयास किया गया तो वो मौके पर नहीं मिले।

“लेकिन बड़ा सवाल ये उठता है कि जिला संयुक्त चिकित्सालय पूरी तरह से सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में है और इसकी मोनिटरिंग स्वयं मुख्य चिकित्सा अधीक्षक करते है। फिर आये दिन ऐसे मामले कैसे सामने आते है और यदि ऐसे मामले सामने आते भी हैं तो इन पर अब तक कोई कार्यवाही क्यों नहीं होती? जिसका नतीजा है कि यह गोरखधंधा बिना खौफ के फलफूल रहा है। वहीं दूसरा बड़ा सवाल यह उठता है कि लॉक डाउन के दौरान जब ऑटो प्रतिबंधित है, ऐसे में बिना पास के चल रही ऑटो कैसे जिला अस्पताल से मरीजों को लेकर बाहर निकल जा रहा है? जबकि लोढ़ी चौकी ठीक जिला अस्पताल के मुख्य द्वार पर स्थापित है।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!