“कोरोना” ने त्रिपल ‘एम’ को बनाया मजबूरी का बंधन

मनोहर कुमार (संवाददाता)
– मालिक, मजदूर व मुद्रा का कैसे हो संयोजन
लॉक डाउन व सामाजिक दूरी ने खड़ा किया है संकट

डीडीयू नगर। कोरोना वायरस के संक्रमण को परास्त करने के लिए देश मे इस समय लॉक डाउन है।लॉक डाउन के इस दौर में लोग घरों में कैद हैं। रोजी रोजगार सब ठप है।सामाजिक दूरी ने निवाले पर संकट ला दिया है। लॉक डाउन का एक माह पूरा हो गया है। 40 दिन के इस बन्दी के दौर में रिश्ते भी दरक रहे हैं। मालिक और मजदूर का रिश्ता भी इसी का हिस्सा है। त्रिपल ‘एम’ के बंधन पर कोरोना का साया साफ दिख रहा है। काम न मिलने से मजदूर निराश है।काम न होने से मालिक हताश है।इनके सब के बीच मुद्रा का फ्लो नहीं हो रहा है।
देश व दुनिया के लिए संकट का सबब बन कर कोरोना वायरस सामने आया है।इस घातक बीमारी ने महामारी का रुख अख्तियार कर लिया है।भारत मे भी इसने दस्तक दी है।अब तक कोरोना पीड़ितों की संख्या 19 हजार के पास चली गई है।मौत का आंकड़ा भी तीन अंकों में पहुंच गया है।इस बीमारी से बचने का एक मात्र उपाय सोशल डिस्टेंसिंग है।सरकार ने 24 मार्च से देश में लॉक डाउन घोषित किया है।पहला चरण 24 मार्च से 14 अप्रैल के था।इसके बाद इसे वितरित कर तीन मई तक कर दिया गया है।लोग घरों में कैद हैं। रोजी रोजी किसी तरह चल रहा है।राहत की बात है कि धान के कटोरे के रूप में विख्यात चन्दौली जनपद में एक भी कोरोना संक्रमित नहीं हैं।इससे जनपद में राहत है।पुलिस भी लॉक डाउन का पालन कराने के लिए सक्रिय है।इधर रोजगार के लिए अभी तक दरवाजे नहीं खुले हैं।त्रिपल ‘ एम ‘ यानी मालिक ,मजदूर व मुद्रा का बंधन कमजोर हो रहा है। कामगार लॉक डाउन के चलते घरों में कैद हैं। उन्हें काम मिलने की कोई फिलहाल उम्मीद नहीं है। इससे उनके समक्ष मुद्रा का संकट खड़ा हो रहा है। वहीं मालिक भी परेशान हैं काम धाम पर ताले लटके हैं। 40 दिन तक कोई सम्भावना दिख नहीं रही है। इसमें एक महीना पार हो गया है।एक महीने घर बैठने के कारण मुद्रा का फ्लो नहीं हो पा रहा है।मालिक काम न होने से हताश हैं तो मजदूर काम के आभाव में निताश हैं।मुद्रा का संकट खड़ा हो गया है।बिना काम के मुद्रा कहाँ से आएगा और कहां जाएगा ।यह एक यक्ष प्रश्न बन रहा है ।जो भी कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए लॉक डाउन किया गया है।इस संक्रमण से निपटने के लिए सामाजिक दूरी ही उपचार है।इस कारण लोग घरों में कैद हैं। त्रिपल एम का बंधन कमजोर हो रहा है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!