लॉकडाउन में वन माफियाओं की कट रही चांदी, बेशकीमती लकड़ियों की हो रही तस्करी

शशि चौबे/संजय केसरी (संवाददाता)

डाला । जहां एक तरफ पूरा देश कोरोना जैसे महामारी से जूझ रहा है और शासन-प्रशासन इस महामारी से निपटने के लिए सभी को लॉक डाउन का पालन कराया जा रहा है वहीं डाला क्षेत्र में वन माफियाओं की नजर बेशकीमती लकड़ियों पर है । जंगलो में कीमती लकड़ियों की तश्करो इन दिनों जोरो पर है, इसकी पुष्टि खुद जंगलों के बेशकीमती लकड़ियों की ठूठ कर रही है।

जानकारी के मुताबिक इन दिनों ओबरा वन प्रभाग के डाला रेन्ज के परासपानी के जंगलो में वन माफियाओं की चांदी कट रही है । वजह साफ है कि इस समय पूरा प्रशासन कोरोना जैसी महामारी से निपटने के लिए लगा हुआ है । ऐसे में वन माफिया बिना किसी डर भय के बेशकीमती लकड़ियों के कटान में जुटा हुआ है । सूत्रों की माने तो इस काम में वन विभाग के कुछ कर्मचारियों की भूमिका भी संदिग्ध है ।

सूत्रों के मुताबिक बेशकीमती लकड़ियों की तस्करी रात में लग्जरी गाड़ियों से हो रहा है । इस कटान को लेकर वन विभाग के रेन्जर से सम्पर्क किया गया तो उनका फोन रिसीव नही हो सका है। वही जंगल वासियो से इस बारे जानकारी लिया गया तो बताया गया कि लम्बे समय से इन क्षेत्रो में जमे कुछ वन कर्मीयो के सहयोग से ही यह खेल चलता है।

बहरहाल वनों में बेशकीमती लकड़ियों के काटन का मामला कोई नया नहीं है, मगर इन संमय ज़ब देश एक त्रासदी से लड़ रहा है ऐसे में वन माफियाओं का यह कदम न सिर्फ कानूनी दृष्टिकोण से गैरकानूनी है बल्कि देश द्रोह जैसा है ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!