कोविड-19 : किसान खेतों में भी कर रहे सोशल डिस्टेंस का पालन

रमेश यादव ( संवाददाता )

दुद्धी । कोरोना वायरस से लड़ने के लिए बार-बार लोगों को समझाया जा रहा है कि सोशल डिस्टेंस का पालन किया जाए लेकिन खास बात यह है कि शहरी क्षेत्र में कई लोग इसे नहीं मान रहे हैं जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में देखें तो मजदूर किसान भी इस बात को अच्छे तरीके से समझ रहे हैं कि इसके क्या फायदे हैं। यही कारण है कि दुद्धी क्षेत्र में गेहूं की कटाई करते समय मजदूर व किसान सोशल डिस्टेंस का ध्यान रख रहे हैं और मॉस्क लगाकर खेती काट रहे हैं। दुद्धी क्षेत्र सहित सभी स्थानों पर गेहूं की कटाई का कार्य लगभग शुरू हो गया है जिसमें मजदूर एक खास दूरी पर रहकर और मॉस्क लगाकर फसल काट रहे हैं। गेहूं के खेतों में 2-2 मीटर छोड़कर फसल काटने को कहा जा रहा है। ताकि कोरोना जैसे महामारी से मुकाबला किया जा सके हालांकि अभी भी कई क्षेत्रों में लोग अपनी फसल को काटने में डर रहे कि कहीं पुलिस प्रशासन का डंडा न चल जाए क्योंकि जगह-जगह की हालत देखकर किसान भी डरे सहमे हुए केवल सुबह और सायं में ही एक निश्चित दूरी बनाकर धीरे धीरे खड़ी फसलों को काटने में जुटे हुए हैं।

आज दुद्धी ब्लॉक क्षेत्र के बीडर गांव में आदिवासी समाज सेवी फौजदार सिंह परस्ते अपने पूरे परिवार के साथ सोशल डिस्टेंस के साथ साथ मॉस्क लगाकर गेंहू काटने खेतों में पहुँच गए। जिससे देखकर आसपास के किसानों को भी कोरोना से लड़ने की हौसला जगी और वे लोग भी गेंहू काटते समय सोशल डिस्टेंस के साथ साथ चेहरा मास्क या गमछा व दुप्पटा से ढकने का काम किया। आदिवासी नेता व किसान फौजदार सिंह परस्ते बताते हैं कि लॉक डाउन का पालन करने व कराने के लिए हमेशा अपने आदिवासी भाईयों एवं आसपास के लोगों को जागरूक करते रहते हैं ताकि हम सब मिलकर कोरोना से लड़ सके।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!