“अज़ीज़” यूँ ही नहीं हैं हर दिल अज़ीज़

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही (ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर । आज इस माहौल में जब लोग लॉकडौन और कॅरोना के डर से अपने अपने घरों में हैं और बहुत जरूरत पड़ने पर अपने काम से बाहर निकल रहे हैं।वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं जो दूसरे की तकलीफ को भी अपने तकलीफ से बढ़कर समझते हैं।ग़ाज़ीपुर में कुल 23 ऐडेड मदरसे हैं जिनमे से 21 की सैलरी कुछ दिन पहले ही आ गयी और दो मदरसों की सैलरी किसी कारणवश नही आ पाई।जिस से इस महामारी के दौर में इन दो मदरसों के टीचर्स के सामने एक मुसीबत खड़ी हो गयी।ऐसे में टीचर्स एसोशिएशन के जनरल सेक्रेटरी मास्टर अज़ीज़ ने दोनों मदरसों के टीचर्स की तकलीफ को समझा और खुद कल लेखाधिकारी से हस्ताक्षर करवाकर आज DMWO से भी हस्ताक्षर करवाया और उसको ट्रेजरी में भेजवा दिया।इसके लिये टीचर्स असोशिएशन के सदर मौलाना मुजीबुल्लाह ने सारे अधिकारीगण को बहुत धन्यवाद दिया।मास्टर अज़ीज़ के इस कार्य से लोग उनकी बहुत प्रशंसा कर रहे हैं।उनके इस कार्य मे उनके सहयोगी रहे कारी रियासुद्दीन भी अपनी तमाम तकलीफ़ के बाद भी उनके साथ खड़े रहे। टीचर्स असोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी मास्टर अज़ीज़ अब सही मायने में हर दिल अज़ीज़ हो गये हैं। टीचर्स असोशिएशन के उपाध्यक्ष मौलाना फरीद ने कहा कि मास्टर अज़ीज़ ने सही मायने में जनरल सेक्रेटरी होने का हक़ अदा कर दिया।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!