#Lockdown 21 : 15वें दिन पुलिस ने तफरीबाजों पर कसा शिकंजा, समाजसेवियों ने पुलिस के कार्य को सराहा, पहनाया माला

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर में 21 दिन के लॉकडाउन का एलान किया था। जिसका मकसद कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकना था। इस दौरान लोगों को घरों में रहने को कहा गया था। लेकिन देश और प्रदेश में जिस प्रकार से कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है उसके बाद 14 अप्रैल को लॉक डाउन हटाने के बारे में स्थिति अभी पूरी तरह स्पष्ट नहीं है। क्योंकि विभिन्न राजनीतिक दलों ने लॉक डाउन बढ़ाने के लिए पीएम से अपील की है ।
वहीं आज उत्तर प्रदेश के 15 जिलों में उन एरिया को सील करने का आदेश दिया है जहां कोरोना संक्रमण मरीज पाए गए। जिसके बाद सोनभद्र वासियों को अब यह चिंता सताने लगी हैं कि कहीं जनपद सोनभद्र में भी लॉक डाउन बढ़ न जाए। लेकिन लोग यह भी चर्चा कर रहे है कि यदि अपना जनपद लॉकडाउन मुक्त हो भी गया तो पड़ोसी जिला बन्द होने की वजह से बहुत ज्यादा राहत नहीं मिलने वाली।

बहरहाल आज लॉक डाउन के 15वें दिन जनपद सोनभद्र के कुछ जगहों को छोड़कर अधिकतर जगहों पर लोग लॉक डाउन के पालन करते नजर आए। मंगलवार प्रशासन की सख्ती आज काम कर गयी ।
आज पुलिस ने कुछ तफरीबाजों पर सख्त रवैया अपनाते हुए दोपहिया वाहनों से तफरी कर रहे लोगों के वाहनों को सीज कर दिया तो वहीं कुछ वाहनों की हवा निकाल दुबारा लॉक डाउन का उल्लंघन नहीं करने की हिदायत देते हुए छोड़ दिया।

वहीं उद्भव सेवा समिति ने इस विकट परिस्थिति में कोरोना के खिलाफ डट कर मुकाबला कर रहे पुलिसकर्मियों व मीडियाकर्मियों का माला पहनाकर सम्मान किया।

इस दौरान कुछ जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए दुकानों के बाहर ग्राहकों के लिए किए गए इंतजामों की झलक भी देखने को मिल रही है।

कोरोना वायरस (कोविड-19) जैसी महामारी को रोकने हेतु जिला प्रशासन पूरी तरीके से कटिबद्ध है। लॉकडाउन के दौरान जनपद में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे, इसके लिए हर सम्भव प्रयास किया जा रहा है। जनपद के समस्त ग्राम पंचायतों व शहरी क्षेत्रों में कुल मिलाकर 720 कम्युनिटी किचन संचालित हैं जिनके माध्यम से प्रतिदिन लगभग 61 हजार 982 व्यक्तियों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।

सोनभद्र जिले के मौरिया पहाड़ी पटवध में खैरवार, भुईया, कोल समाज के लोगों को लॉकडाउन के दौरान भरण-पोषण की हो रही समस्या की जानकारी होने पर, जरूरतमंदों को तत्काल निःशुल्क राशन किट मुहैया कराने की जिम्मेदारी जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी अजय कुमार द्विवेदी को सौंपी। गरीबों को तत्काल मुख्य विकास अधिकारी ए0के0 द्विवेदी के टीम द्वारा उनकी बस्ती में जाकर निःशुल्क राशन किट मुहैया कराया गया।

जिला मजिस्ट्रेट एस0 राजलिंगम ने जनहित में व महामारी की स्थिति में छात्रों के अभिभावकों के आर्थिक स्थिति वास्तविक रूप से संकट के दौर से गुजरने को ध्यान में रखते हुए स्कूल फीस को जमा करने के लिए बाध्य किया जाना न्याय उचित नहीं पाया है। जिलाधिकारी ने सोनभद्र जिले के सभी सरकारी, निजी शिक्षण संस्थाओं यानी सभी प्रकार के बोर्डों से सम्बद्ध शिक्षण संस्थाओं से आदेशित किया है कि वे शैक्षणिक सत्र-2020-21 के पहले महीने की फीस छात्र अभिभावकों से बिना किसी अतिरिक्त शुल्क लिये एक महीना के लिए स्थगित कर दिया जाय।

जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने आज दुद्धी क्षेत्र के बघाडू स्थित एक मदरसे का जायजा लिया और शब-ए-बारात घर पर ही मनाने का निर्देश दिया साथ ही मदरसे में निवास कर रहे तीन व्यक्तियों को ही नमाज अदा करने के लिए निर्देशित किया।

वहीं शाहगंज क्षेत्र में सफाईकर्मियों ने कस्बे को सेनेटाइज करने का काम किया।

मुस्लिम धर्मगुरुओं में मुस्लिम समाज के लोगों से शब-ए-बारात का त्योहार घर पर ही मानने की अपील की।

जिलाधिकारी ने मंगलवार को बैंकों के बाहर लग रही फिर पर चिंता जताई थी । जिसके बाद पुलिस ने आज बैंकों के बाहर लग रही भीड़ को सामाजिक दूरी का पालन कराया।

बैंकों में आने वाले खाताधारकों से जनपद न्यूज़ लाइव की टीम ने बातचीत की तो पता चला कि सभी के हाथ में पैसा निकालने का फार्म था । पूछने पर बताया कि ऐसे तो अंदर प्रवेश वर्जित है, पैसा निकालने के बहाने वह काउंटर पर जाकर यह पता लगाएंगे कि सरकार द्वारा भेजी गई रकम उनके खाते में आया भी है कि नहीं। यदि आया होगा तो पैसा निकाल लेंगे अन्यथा वे खाता चेक करके घर लौट जाएंगे। आपको बता दें कि कल जिलाधिकारी ने बैंक अधिकारियों से यह कहा था कि बैंकों में भीड़ अनावश्यक रूप से न लगने पाए।जिसके बाद बैंक कर्मचारियों ने खाताधारकों को सिर्फ पैसा निकालने के लिए यहां आने की अपील की थी।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!