लॉक डाउन से अपराध का गिरा ग्राफ

मनोहर गुप्ता (संवाददाता)
* जनपद में अब तक नहीं घटी अप्रिय घटना
* लॉक डाउन का सख्ती से पालन करा रही पुलिस
* तस्करी पर भी लगा है विराम

डीडीयू नगर। कातिल कोरोना वायरस को लेकर जनपद में लगातार सतर्कता बरती जा रही है।प्रशासन भी सख्त मिज़ाज में है।कातिल कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने पूरे देश में सामाजिक दूरी बनाने के उद्देश्य से लॉक डाउन घोषित किया गया हैं। 24मार्च से लागू लॉक डाउन का दायरा 14 अप्रैल तक है। लॉक डाउन के दौरान अपराध का ग्राफ निचले पायदान पर चला गया है।जनपद में इसका कोई असर नहीं है। ट्रेनों के परिचालन रोके जाने के बाद तस्करी का खेल भी बंद है।
वैश्विक महामारी का रूप लेकर भारत सहित पूरे विश्व मे कातिल बन कर लोगों को संक्रमित कर रहा कोविड 19(कोरोना वायरस ) से दहशत है।अब तक भारत मे चार हजार से ज्यादा लोग संक्रमण के शिकार हैं। सौ से अधिक लोगों की मौत हो गई।सरकार के इसकी रोकथाम के लिए देश मे पहले 22 मार्च को जनता कर्फ़्यू व 24 मार्च से 21 दिन के लिए पूरे भारत मे लॉक डाउन घोषित किया है।इस बीमारी का सबसे सकारात्मक उपचार सामाजिक दूरी है।इसका सख्ती से पालन कराया जा रहा है। लॉक डाउन के बाद से जनपद में अपराध का ग्राफ निचले पायदान पर पहुंच गया है।बिहार में शराबबंदी के बाद से शराब तस्करी का खेल खूब हो रहा था।बिहार व यूपी का सीमा होने के कारण पुलिस कहीं से शराब तस्करों को दबोच लेती थी।वहीं स्टेशन पर आए दिन सोना, चांदी, नकदी, असलहा, मादक पदार्थ, जीव जन्तुओं को तस्करी करते समय विभिन्न ट्रेनों से पकड़ा जाता था।ट्रेनों के परिचालन बन्द होने से इस पर भी लगाम लग गया है।इसके अलावा जनपद में चोरी, डकैती, छिनैती, हत्या, राहजनी आदि अपराधों पर लगाम लगा हुआ है।कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए लागू किये गए लॉक डाउन से सामाजिक दूरी के नियमो को पालन कराने के लिए पुलिए लगातर शहर से लेकर गांव तक चक्रमण कर रही है।इससे अपराधी भी खौफ में है।पुलिस नियमों का पालन कराने के लिए लगातार भ्रमण भी कर रही है। देखा जाय तो लॉक डाउन अपराध का ग्राफ काफी गिरा है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!