गांवो के बाहर ग्रामीणों ने लगाया बैरिकेडिंग

अनिता अग्रहरी (संवाददाता)

धीना। कोरोना वायरस को देखते हुए जिला प्रशासन का गांवो को बैरिकेडिंग करने का पहल रंग लाने लगा है।धीरे धीरे ग्रामीण जागरूक होकर खुद ही गांव के बाहर बांस बल्ली लगाकर बैरिकेडिंग कर रहे है।ताकि गांव में बाहरी व्यक्तियों का प्रवेश व बाहरी लोगों का गांव के अंदर प्रवेश पर रोक लग सके।शनिवार को धीना क्षेत्र के सबल जलालपुर, सिकठा व गुरैनी गांव के मुख्य मार्ग पर ग्रामीणों ने बांस बल्ली लगाकर आवागमन पर रोक लगा दिया।
देश मे कोरोना वायरस को देखते हुए जनपद को लॉक डाऊन किया गया है।ताकि इस वायरस को भगाया जा सके।अब जिला प्रशासन के गांवो के बाहर बैरिकेडिंग लगाने के पहल पर ग्रामीणों ने खुले मन से स्वीकार कर रहे है।ग्रामीण खुद जागरूक होकर गांवो के बाहर बांस बल्ली लगाकर बैरिकेडिंग लगाने का काम कर रहे है।शनिवार को सबल जलालपुर, गुरैनी, सिकठा गांव के मुख्य मार्ग पर ही बैरिकेडिंग कर बाहरी लोगों के प्रवेश को वर्जित करने का बोर्ड लगा दिया।ग्रामीणों ने निर्णय लिया कि बैरिकेडिंग के साथ ही गांव के लोग भी वहां दिन रात पहरा भी देंगे।ताकि बाहरी लोग किसी भी कीमत पर गांव में ना आने पाए।इस मौके पर धीना थानाध्यक्ष राजेश कुमार, एसआई राजनारायण पांडेय, दुर्गादत्त यादव, बृजेश सिंह,प्रदीप चौहान, सुदर्शन यादव आदि रहे।इस सम्बंध में सीओ सकलडीहा जगत कन्नौजिया ने कहा कि प्रत्येक गांवो में बैरिकेडिंग लगाने में ग्रामीणों का सराहनीय पहल है।इससे काफी हद तक लॉक डाऊन का पालन किया जा सकेगा।वही कोरोना वायरस पर लॉक डाऊन से सफलता मिल जाएगा।इसके लिए सभी को जागरूक होने की जरूरत है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!