एक ही लक्ष्य, जनपद में न रहे कोई भूखा : जिलाधिकारी

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

– जनपद के 678 ग्राम पंचायतों में कम्युनिटी किचन के माध्यम से प्रतिदिन 36हजार व्यक्तियों को दिया जा रहा है निःशुल्क भोजन

– शहरी क्षेत्रों में 11 कम्युनिटी किचन के माध्यम से 2500 व्यक्तियों को उपलब्ध कराया जा रहा है भोजन

– 27 क्वारंटीन केन्द्रों में 1697व्यक्तियों के खानपान व ठहरने की है व्यवस्था

– जिले के 13200परिवारों को उपलब्ध कराया जा रहा है राशन किट

सोनभद्र । कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत देशव्यापी लॉकडाउन चल रहा है। जनपद में लॉकडाउन के कारण कई परिवारों की नियमित आमदनी प्रभावित हुई है। जिला प्रशासन युद्ध स्तर पर ऐसे परिवारों को चिन्हित कर उन्हें आवश्यक सहायता उपलब्ध करा रहा है। जनपद के समस्त ग्राम पंचायतों में 678 कम्युनिटी किचन संचालित हैं जिनके माध्यम से प्रतिदिन लगभग 36000 व्यक्तियों को उनके घर पर भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।
ग्राम पंचायतों को कम्युनिटी किचन के संचालन हेतु उन्हें आपदा धनराशि एवं राशन सामग्री उपलब्ध करायी गयी है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक ग्राम पंचायत में अनाज बैंक में अन्नदान लिया जा रहा है। अनाज बैंक से प्राप्त राशन सामग्री का इस्तेमाल भी कम्युनिटी किचन के संचालन हेतु किया जाएगा। शहरी क्षेत्रों में 11 कम्युनिटी किचन संचालित किये जा रहे हैं जिनमें प्रतिदिन 2500 व्यक्तियों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके अतिरिक्त जनपद में संचालित 27 क्वारंटीन केन्द्रों में 1697 व्यक्तियों के खान-पान एवं ठहरने की व्यवस्था की गई है। इस प्रकार जनपद में कुल 689 कम्युनिटी किचन एवं 27 क्वारंटीन केन्द्रों के माध्यम से लगभग 41000 व्यक्तियों को प्रतिदिन भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।
जनपद में 13200 जरूरतमन्द परिवार भी चिन्हित किए गये हैं जिन्हें राशन किट उपलब्ध कराया जा रहा है। इस राशन किट में 5 किलो आटा, 5 किलो चावल, दाल, नमक, प्याज प्रत्येक एक किलो, दो किलो आलू, आधा लीटर सरसो का तेल एवं 100 ग्राम मसाले इत्यादि सामग्री शामिल है। इसके अन्तर्गत समस्त 2000 मुसहर परिवारों को राशन किट वितरित करा दी गयी है। इसके अलावा लगभग 9300 परिवार ऐसे हैं जिनके पास राशन कार्ड नहीं है। इसमें अनुसूचित जनजाति एवं अन्य वर्ग के परिवार, विधवा महिला मुखिया परिवार, दिहाड़ी श्रमिक परिवार शामिल हैं। उपरोक्त समस्त 9300 राशन कार्ड विहीन परिवारों को राशन किट वितरित की जा रही है। इन सभी परिवारों का मिशन मोड में राशन कार्ड बनवाने की प्रक्रिया भी प्रारम्भ की गई है। आतिथि लगभग 2500 परिवारों का राशन कार्ड हेतु आवेदन भी करा दिया गया है। उपरोक्त मिशन हेतु उपायुक्त, श्रम रोजगार को नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है।
1609 ऐसे परिवार भी चिन्हित किये गये हैं जो अन्य जनपदों या राज्यों के निवासी हैं एवं जनपद सोनभद्र में श्रमिक के रूप में कार्यरत हैं। ऐसे परिवारों को भी राशन किट वितरण कराया जा रहा है। जनपद में स्थापित औद्योगिक प्रतिष्ठानों यथा लैंको अनपरा पावर लि0, हिण्डाल्को इण्डस्ट्रीज लि0, एन0टी0पी0सी0 शक्तिनगर, अल्ट्राटेक सीमेंट लि0 डाला, रेनूसागर पावर डिविजन, ग्रासिम इण्डस्ट्रीज लि0, उ0प्र0रा0वि0उ0नि0लि0 ओबरा एवं जनपद के शिक्षकों द्वारा भारी मात्रा में अब तक लगभग 10000 से ज्यादा राशन किट जिला प्रशासन को दी गयी है। आतिथि जिला प्रशासन द्वारा लाभार्थियों को 8000 राशन किट वितरित किया जा चुका है एवं लगातार वितरण का कार्य जारी है।
जनपद में कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे इसके लिए जिला प्रशासन विशेष प्रयास कर रहा है। भोजन की समस्या की शिकायत तीन माध्यमों से प्राप्त की जा रही है। पहला माध्यम मुख्यमंत्री हेल्पलाईन नम्बर 1076 है, जिस पर दर्ज शिकायतें जिलाधिकारी आई0जी0आर0एस0 निस्तारण केन्द्र द्वारा निस्तरित की जा रही है। दूसरा माध्यम पुलिस सहायता नम्बर 112 है जिस पर प्राप्त शिकायतों को जिलाधिकारी कन्ट्रोल रूम द्वारा निस्तारित किया जा रहा है। तीसरा माध्यम जिलाधिकारी ऑनलाईन पोर्टल है। यह जिला प्रशासन का एक नवीन प्रयोग है जिसके अन्तर्गत डिस्ट्रिक्ट वेबसाईट पर एक वेबलिंक बनायी गयी है जहाँ जाकर कोई भी व्यक्ति स्वयं या किसी अन्य के लिए भोजन सम्बन्धी शिकायत दर्ज करा सकता है। भोजन सम्बन्धी शिकायतों के निस्तारण हेतु जिला विकास अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित किया गया है। भोजन सम्बन्धी शिकायतों को तीन घण्टे के भीतर निस्तारित किया जा रहा है। शासन द्वारा कन्ट्रोल रूम एवं आई0जी0आर0एस0 शिकायत निस्तारण केन्द्रों औचक निरीक्षण में जनपद सोनभद्र के कार्य को सन्तोषजनक पाया गया है।

“इस तरह से जिलाधिकारी के नेतृत्व में भोजन एवं राशन सम्बन्धी समस्या से निपटने के लिए जिला प्रशासन द्वारा युद्ध स्तर पर प्रयास किया जा रहा है। हर हाल में कोशिश यह है कि एक भी व्यक्ति भूखे पेट न सोने पाये।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!