मां लक्ष्‍मी जी की कृपा चाहिए तो करें यह काम,जानें

हम हर रोज घर में पूजा करते हैं। सब अपनी-अपनी श्रद्धा और प्रक्रिया से पूजा करते हैं, लेकिन माना जाता है कि पूजा करते वक्‍त कुछ चीजों का ध्‍यान अवश्‍य रखना चाहिए। पं.शिवकुमार शर्मा के अनुसार पूजा में दीपक के नीचे चावल अवश्‍य ही रखने चाहिए। ज्‍योतिष में चावल को शुद्धता का प्रतीक माना गया है और दीपक को पूर्णता का। हिन्दू धर्म में दीपक को देवरूप भी माना जाता है। इसीलिए किसी भी तरह की पूजा शुरू करने से पहले दीपक का तिलक लगाकर पूजन किया जाता है। उसके बाद दीपक को आसन दिया जाता है यानी दीपक को स्थान दिया जाता है।

दीपक के नीचे चावल ना रखें जाने पर इसे अपशकुन माना जाता है। यदि दीपक के नीचे चावल नहीं हो तो दीपक अपूर्ण होता है। माना जाता है कि यदि दीपक को आसन देकर पूजा में ना रखा जाए तो भगवान भी पूजन में आसन ग्रहण नहीं करते। साथ ही चावल को लक्ष्मीजी का प्रिय धान भी माना जाता है। इसीलिए कहा जाता है कि पूजन के समय दीपक को चावल का आसन देने से घर में स्थिर लक्ष्मी का निवास होता है। शास्त्रों में ऐसा उल्लेख भी मिलता है कि शुक्रवार के दिन लक्ष्मी मां के सामने चावल की ढेरी बनाकर उसके ऊपर घी का दीपक लगाने से धन लाभ होता है।

नोट:
(ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!