सार्वजनिक स्थलों पर एक साथ नमाज न पढ़ने दिया जाए : योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि तबलीगियों की गलतियों का खामियाजा पुलिस कर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों और प्रदेश वासियों को नहीं भुगतने देंगे। सार्वजनिक स्थलों पर एक साथ नमाज ना पढ़ने दी जाए। जो लोग लाकडाउन का उल्लंघन कर ऐसा करने की कोशिश करते हैं, उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाए।

मुख्यमंत्री ने गुरुवार को अपने आवास पर टीम 11 के साथ मीटिंग में यह बात कही। योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि क्वारंटीन सेंटरों में भी अच्छी व्यवस्था हो, भोजन इत्यादि का बेहतर प्रबंध हो। साथ ही सुरक्षा की पूरी व्यवस्था हो ताकि कोई मरीज भाग ना सकें, ऐसा होने पर डीएम और एसपी सीधे तौर पर जवाबदेह होंगे।
उन्होंने कहा कि तबलीगी जमात से लौटे हर व्यक्ति को हर हाल में ढूंढ निकाला जाए। उसकी पूरी निगरानी हो। जो विदेशी हैं उनके पासपोर्ट जब्त कर जांच हो। कानून तोड़ा है तो एनडीआरएफ एक्ट के तहत कार्रवाई हो। जिन्होंने छुपाया है या अवैध ढंग से शरण दी है उनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जाए।

असल में प्रदेश में अब तक तबलीग से जुड़े 1330 लोग यूपी में चिन्हित हो चुके हैं। इनमें 258 विदेशी नागरिक हैं, इन सभी को क्वारंटीन कर जांच की जा रही है। 200 लोगों के पासपोर्ट जब्त करने की कार्रवाई पूरी की जा चुकी है, तमाम लोगों के खिलाफ अवैध शरण देने का मामला दर्ज हुआ है।

सीएम ने इसी मीटिंग में कहा है कि तबलीगी जमात से जुड़े जिन लोगों को क्वारंटीन किया गया है, उनकी सख्ती से निगरानी की जाए। सोशल डिस्टेंसिंग और हेल्थ के सारे प्रोटोकाल का सख्ती से उनसे पालन कराया जाए। साथ ही यदि वे पुलिस कर्मियों या स्वास्थ्य कर्मियों के साथ सहयोग न करें और बदसलूकी करें तो उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!