15 मजदूरों के जत्थे को पुलिस ने कराया भोजन, जरूरी सामान देकर घर के लिए किया विदा

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । इस समय पूरे देश में लॉक डाउन लागू है। इस समय कोई भी परिवहन सेवा उपलब्ध नहीं है लोगों को अपने घरों पर ही डोर टू डोर जरूरी सामान उपलब्ध कराई जा रही है । ऐसे में प्रशासन लगातार प्रधानमंत्री की उस अपील को लागू करने में जुटी है जिसमें प्रधानमंत्री ने देशवासियों से 21 दिनों का वक्त मांगा था । उनका कहना था कि यदि 21 दिनों तक आप समय नहीं देंगे तो देश 21 वर्षों तक पीछे चला जाएगा । जिसके बाद पूरे देश में लोगों ने प्रधानमंत्री की उस अपील को गंभीरता से लेते हुए सभी संस्थानों को भी बंद कर दिया । इस दौरान गैर प्रांतों में काम करने वाले मजदूरों व कर्मचारियों के सामने एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई । उनके सामने कई तरह की दिक्कतें आने लगी जिसके बाद घर वापसी का मन बना लिए लेकिन घर जाने के लिए उनके पास कोई संसाधन नहीं था । बड़ी संख्या में लोग अपने कर्मस्थली को छोड़कर घर वापसी के लिए पैदल निकल पड़े । ऐसे में सड़कों से गुजरते लोगों का हुजूम देखे जाने लगा । जिसके बाद सरकार भी हरकत में आई और सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि ऐसे लोगों की मदद करें और उनको किसी भी दशा में भूखा न रहने दे ।

इसी कड़ी में पीलीभीत के पुलिस अधीक्षक मानवता दिखाते हुए बड़ी संख्या में राहगीरों को भोजन कराया। जनपद पिथौरागढ में मजदूरी कर रहे 15 मजदूरों का जत्था लॉकडाउन के चलते 26 मार्च से पैदल चल कर अपने गृह जनपद बहराइच को जा रहे थे। आज दोपहर पुलिस अधीक्षक अभिषेक दीक्षित को फ़ोन पर मजदूरों के संबंध में सूचना प्राप्त हुयी। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक ने इन सब की मदद के लिए प्रभारी निरीक्षक थाना माधोटांडा को निर्देशित किया । मौक़े पर प्रभारी निरीक्षक थाना माधोटांडा द्वारा मय फ़ोर्स के तत्काल उक्त व्यक्तियों से सम्पर्क किया गया, जो भूख प्यास के कारण काफ़ी बदहाल अवस्था में थे । उक्त सभी लोगों को भोजन कराकर व ज़रूरत की अन्य सामग्री देकर सुरक्षित गन्तव्य के लिए रवाना किया गया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!