कोरोना का खौफ : रोडवेज बसों में जागरुकता और सेनेटाइजर के बाद भी यात्री नदारद

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । प्रदेश में कोरोना वायरस को लेकर बने भय के माहौल में रोडवेज बस सेवाओं में यात्रियों की संख्या तेजी से कम होने लगी है। बहुत जरूरी होने पर ही लोग यात्रा करने का जोखिम उठा रहे हैं। हालांकि प्रशासन ने लोगों में कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता बढ़ाने के साथ ही सुरक्षा के इंतजाम किए हैं लेकिन फिर भी पीक सीजन में यात्रियों की संख्या में गिरावट ने लोगों में भय की तस्वीर को साफ कर दिया है। अस्पतालों के साथ अब परिवहन निगम ने भी कोरोना वायरस को लेकर सतर्कता बरतनी शुरु कर दी है। यात्रियों और कर्मचारियों को संक्रमण से बचाने के लिए सेनेटाइज कर बसों को रवाना किया जा रहा है। यात्रियों को कर्मचारी जागरुक भी कर रहे हैं। कोरोना वायरस का बढ़ता दायरा चिंता का विषय बन रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशों पर सभी अलर्ट हो गये हैं। अब रोडवेज बसों की सीटों और हैंडलों को सेनिटाइज्ड करने के बाद ही रवाना किया जा रहा है। मुख्यालय से मिले आदेश पर यात्रियों की सुरक्षा के लिए बसों की साफ-सफाई पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

स्टेशन इंचार्ज आर0के0सिंह ने बताया कि “एहतियात बरतने को निर्देश जारी कर दिए हैं। बसों के उन पार्ट्स को अच्छे से साफ करा जा रहा है, जिसे लोग अधिक छूते हैं। इनमें बसों की सीटों पर लगे हैंडल, छतों पर लगे हैंडल, बसों में चढऩे के लिए लगाए जाने वाले सपोटर और बस अड्डे पर यात्रियों के बैठने वाले स्थान को सेनिटाइज्ड किया जा रहा है। वहीं, डिपो पर बस आने के बाद धुलाई करवाकर गंतव्य स्थल पर रवाना की जा रही है। चालक-परिचालकों को मास्क पहनकर या मास्क उपलब्ध नहीं रहने पर रुमाल बाँध कर बस चलाने को निर्देशित किया गया है। वहीं बस ड्राइवर को एक पम्पलेट देकर यात्रियों को पढ़कर सुनाने के लिए निर्देशित किया गया है। पम्पलेट के माध्यम से यात्रियों को जागरूक किया जा रहा है।”

वहीं एआरएम ए0के0सिंह का कहना है कि “यदि हम पिछले तीन दिनों की बात करें तो रोडवेज में होने वाली आय बेहद कम हो गयी है। उन्हों3 कहा कि यदि इसी प्रकार चलता रहा तो बसों में तेल का खर्चा निकलना भी मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने आशंका जताई कि यदि इसी प्रकार कुछ दिनों तक यात्रियों का टोटा रहा तो कुछ बसों की सेवाएँ बंद करनी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि जहाँ बस में 45-50 कई संख्या हुआ करती थी वहाँ घट कर महज 5-10 रह गयी है।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!