कोरोना का खौफ : विंध्यवासिनी मां का कपाट मंगला आरती के बाद अनिश्चित काल के लिए बन्द

राजीव दुबे (संवाददाता)

विंध्याचल । नवरात्रि में अगर आप मीरजापुर स्थित सिद्धपीठ विन्ध्याचल धाम में माता विंध्यवासिनी का दर्शन पूजन करने आना चाहते हैं तो मत आइयेगा। 20 मार्च की भोर में मंगला आरती के बाद कपाट अनिश्चित काल के लिए बन्द कर दिया जायेगा। यह निर्णय श्रीविन्ध्य पंडा समाज के आम बैठक में गुरुवार को लिया गया। नवरात्रि 25 मार्च से आरम्भ हो रहा है। 18 तारीख को हुई बैठक में केवल मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश और प्रसाद चढा़ने पर रोक लगा था।

नवरात्रि मेला के दौरान देश के विभिन्न प्रांतो से भक्त माँ विन्ध्यवासिनी दरबार में आते हैं। इनकी संख्या प्रतिदिन लाखों में हो जाती हैं। कोरोना के कहर से लोगों को बचाने के लिए अब मंदिर को ही बन्द रखने का निर्णय किया गया है। नगर विधायक एवं तीर्थ पुरोहित पं० रत्नाकर मिश्र ने इसे देश और समाज के हित के लिए उठाया गया आवश्यक कदम बताया । प्रतिदिन पुजारी श्रृंगार एवं पूजन के बाद कपाट बन्द कर देंगे। झांकी से भी भक्तों को दर्शन नहीं मिल पायेगा ।

कोरोना से लड़ने की तैयारी में आम और ख़ास सभी लगे है। जगत के कल्याण की कामना करने वाले तीर्थ पुरोहित भी मेला के बावजूद दर्शनार्थियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए विन्ध्याचल मंदिर को बन्द रखने का निर्णय किया है। पंडा समाज ने देश में बन्द हुए तमाम मंदिरों को देखते हुए मंदिर पूरी तरह बन्द रखने का निर्णय देश और समाज हित में लिया है। हालात को देखते हुए मंदिर खोलने का निर्णय लिया जायेगा ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!