कोरोना वायरस : अर्मेनिया में मेडिकल की पढ़ाई कर रही दुद्धी की दो बेटियां आज लौटेंगी स्वदेश

रमेश यादव (संवाददाता)

– ढाई सौ छात्रों के समूह के साथ दुद्धी की दो बेटियाँ आज विशेष विमान पर होंगी सवार

दुद्धी । नोवेल कोरोना वायरस जैसी खतरनाक बीमारी से महफूज़ रखने व अपने बच्चों की वतन वापसी की आस संजोए माँ सहित घर के अन्य सदस्य दिन-रात दुआओं में लीन हैं। कोरोना का आतंक समूचे विश्व को अपने आगोश में ले लिया है। यूरोप में महज तीस लाख की आबादी वाले अर्मीनिया देश में पांच सौ से अधिक कोरोना की रोगी मिलने से वहां इमरजेंसी जैसे हालात उत्पन्न हो गये है। उस देश की राजधानी येरेवान में स्थित येरीवान स्टेट मेडिकल गवर्नमेंट यूनिवर्सिटी बंद होने से वहां चौबीस सौ से अधिक विद्यार्थी फंसे हुए है। अर्मेनिया से सभी उड़ान भी रद्द कर दिया गया है। सुरक्षित अपने वतन लौटने के लिए बच्चों द्वारा भारतीय दूतावास का दरवाजा खटखटा रहे है,किन्तु उन्हें कोई सकारात्मक परिणाम नहीं मिल रहा है, जिससे भारतीय अभिभावकों में बेचैनी बढ़ी हुई है। इन सब के बीच बुधवार की देर शाम राहत वाली खबर यह आई कि आज येरेवान से वाया मास्को एक विशेष विमान भारत के लिए उड़ान भरेगा। उसमें वाईएसएम यूनिवर्सिटी के 250 बच्चों के समूह को वतन वापसी की व्यवस्था बनाई गई है। जिसमें दुद्धी की दो बेटियां भी शामिल है
दुद्धी जामा मस्जिद के सदर मुहम्मद शमीम अंसारी की दो बेटिया अर्मीनिया में येरेवान शहर के विश्व विद्यालय में मेडिकल स्टूडेंट के रूप में अध्यनरत है। इसके अलावा अम्बिकापुर निवासिनी उनकी भांजी डॉ0 फलक अंसारी व दुद्धी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात वरिष्ठ फार्मासिस्ट सी0पी0 सोनी का छोटा पुत्र डॉ0 अभिषेक सोनी भी उसी यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं। बीते सप्ताह वहां से आये एक फोन काल ने परिजनों की चिंता बढ़ा दी। बताया कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने सभी पढाई एवं परीक्षाएं स्थगित करते हुए अग्रिम आदेश तक विश्वविद्यालय बंद करते हुए सभी विद्यार्थियों को अपने वतन लौटने का फरमान सुना दिया। इससे अन्य देशों के साथ चौबीस सौ अधिक भारतीय बच्चों में भी अफरा-तफरी मच गई।

मेडिकल कोर्स की फाइनल इयर की छात्रा डा0 ऐमन अंसारी ने दूरभाष पर बताया कि अर्मीनिया सरकार ने लगभग सभी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगा दी है। जिससे डॉक्टरी की तालीम हासिल के रहे भारतीय छात्र-छात्राओं की मुसीबत और बढ़ गई है। एक राहत की खबर यह बताई कि उसके साथ उसकी छोटी बहन डॉ0 एरम अंसारी की भी 19 मार्च को चलने वाली विशेष विमान की टिकट कन्फर्म हो गई है। डॉ0 फलक और डॉ0 अभिषेक सोनी 20 मार्च को दूसरी फ्लाइट पकड़ेंगे। 19 मार्च को ढाई सौ बच्चों को लेकर एक सीधी विमान गुरूवार को येरेवान उड़ान भरेगी जो मास्को होते हुए दिल्ली शुक्रवार को तड़के पहुंचेगी। दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर बाकायदा उनकी जांच कर उन्हें अपने-अपने गंतव्य को रवाना होने की इजाज़त दी जाएगी। राहत भरी खबर मिलने के बाद परिजनों को अब उनके बेसब्री से सुरक्षित वतन वापसी का इन्तजार कर रहे है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!