होइहें सोइ जो राम रचि राखा को करि तर्क बढ़ा वहीं साख़ा: अनूप महाराज

अबुलकैश डब्बल (ब्यूरो)

चंदौली । धानापुर खड़ान में आयोजित सिद्धपीठ महोत्सव में सोमवार को श्री राम कथा समापन दिवस पर वृंदावन से पधारे कथा वाचक अनूप जी महाराज शिव विवाह, शिव महिमा, नारद मोह, सती मोह, राम जन्म, कृष्ण कन्हैया की लीला से लेकर पुराणों ग्रन्थों से तमाम कथाओं सहित संत कबीर के विचारों से समाज को सिखाने और जोड़ने का संदेश दिया । महाराज श्री ने बताया की जीवन में चाहे जितने भी दुःख आ जाएं उसे चुप चाप सह जाए घर परिवार कि कमजोरियों को कभी पड़ोसियों से मत कहो क्योंकि पड़ोसी जिस दिन आपका दुःख दूसरों को बताएगा उस दिन समाज आपका उपहास करना शुरू कर देगा और जिस दिन आप को पता चलेगा कि समाज में आपका उपहास हो रहा है उस दिन समाज से मिलने वाली पीड़ा आपके लिए घर कि पीड़ा से ज्यादा दुखदाई हो जाएगी इस लिए जब जब आपको किसीको यह लगने लगे कि अब मेरा जीवन दुःखों से भर गया है जब आप पत्नी पुत्र मित्र भाई परिवार पड़ोस समाज कि बातों से व्यवहारों से निराश हताश दुःखी हो जाते हैं तो क्रोध ना करें गलत कदम नहीं उठाएं बल्कि गोस्वामी तुलसी दास कि चौपाई होइहें सोइ जो राम रचि राखा को करि तर्क बढ़ावहीं साख़ा का स्मरण और अनुसरण करें महोत्सव के संस्थापक संरक्षक अंजनी सिंह ने महोत्सव में सहयोग देनें वाले परगना महाइच सहित जनपद चंदौली क़े सभी सहयोगियों का आभार व्यक्त किया ।

इस अवसर पर बचाऊ सिंह, शमशेर सिंह, सत्यवान मौर्य, सोनू सिंह, दिनेश सिंह, विश्वनाथ, लहरी, पप्पू सिंह, उर्मिला सिंह, सीमा सिंह, मुन्नी देवी, अनुराधा सिंह, प्रज्ञा सिंह, प्राची सिंह सहित सैकड़ों महिलाएं पुरुष युवा बाबा भक्त उपस्थित रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!