आवारा कुत्तों के आतंक से दहशत, जिला अस्पताल में बढ़ी मरीजों की संख्या

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

– लगातार हमलावर हो रहे कुत्ते

– फरवरी, मार्च में एकाएक बढ़े हमले

– जिला अस्पताल में बढ़ी एंटी रैबीज की डिमांड

सोनभद्र । जिले भर में रैबीज के शिकार हो रहे मरीजों की संख्या निरंतर बढ़ती ही जा रही है। अचानक कुत्तों के बढ़े इस आतंक से शहर में दहशत का माहौल है। वहीं जिला अस्पताल में भी मरीजों की संख्या बढ़ गई हैफिलहाल, डॉक्टरों ने एंटी रैबीज इंजेक्शन पर्याप्त मात्रा में होने का दावा किया है। वहीं दूसरी तरफ शहर के लोगों ने भी स्थानीय प्रशासन से कुत्तों के आतंक का समाधान निकालने की मांग की है

हालात यह हैं कि हर दिन मरीजों की संख्या 30 के पार पहुँच चुकी है। जिला अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। यहां पहुंचने वाले मरीजों में आवारा कुत्तों के शिकार मरीजों की संख्या सबसे अधिक देखी जा रही है।
आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो महज 40 दिनों में रैबीज के मरीजों की संख्या 1000 से पार पहुंच गई है। अर्थात 40 दिनों में 1000 से अधिक लोगों को कुत्तों ने अपना शिकार बना डाला।
आंकड़ों को देखने के बाद स्पष्ट है कि किसी तरह से कुत्तों के शिकार होने वाले मरीजों की संख्या निरंतर बढ़ती ही जा रही है। हालांकि इस संख्या के बाद यह तय हो गया है कि हर दिन औसतन 30 लोगों को कुत्तों का शिकार होना पड़ रहा है।

मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ0 पी0बी0गौतम ने बताया कि इस सीजन में एकाएक कुत्तों के हमले बढ़े हैं। अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में इंजेक्शन मौजूद हैं। उन्होंने लोगों से अपील किया कि कुत्तों से सावधान रहें। यदि झुंड में कुत्ते दिखे तो उनसे दूरी बना कर रखे। यदि कुत्ता काट लेता है तो घाव को हैण्डपम्प के बहते पानी से पाँच मिनट तक धोएँ ततपश्चात नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाकर टिटनस और एंटी रेबीज का इंजेक्शन लगवाएँ।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!