महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का एक दिवसीय अयोध्या दौरा कल

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे एक दिन के कल शनिवार को अयोध्या दौरे पर श्री राम की नगरी अयोध्या में पहुंच रहे है । मुख्यमंत्री बनने के बाद उद्धव ठाकरे का ये पहले दौरा है । इस दौरे का कुछ ने स्वागत किया तो कुछ ने विरोध किया । राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास ने उद्धव ठाकरे का अयोध्या में स्वागत किया । लेकिन हिंदू महासभा और कुछ साधू-संतों ने उद्धव ठाकरे का अयोध्या नगरी में विरोध करने का निर्णय लिया है ।

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास के मुताबिक, मुख्यमंत्री एक श्रद्धालु के नाते अगर अयोध्या आते हैं तो उनका स्वागत है लेकिन अगर राम के नाम राजनीति होगी तो उनका विरोध होगा । राजू दास ने कहा, ”मेरा विरोध उद्धव ठाकरे को लेकर है, उनके अयोध्या आने को लेकर नहीं । महाराष्ट्र में जो खिचड़ी सरकार उन्होंने बनाई है उसके बाद उनकी निती और नियत में काफ़ी अंतर आया है । मुसलमानों को वो आरक्षण दे रहे, सीएए, एनआरसी का समर्थन कर रहे हैं । एक हिंदू होने के नाते मैं उनकी इन नीतियों का विरोध करता हूं और साथ में अगर राम के नाम की वो यहां आकर राजनीति करेंगे तो फिर मैं उनके इस दौरे का भी विरोध करुंगा ।”

वहीं वीएचपी ने भी उद्धव ठाकरे के बीजेपी से साथ गठबंधन तोड़ने के निर्णय का विरोध किया और उनके राम मंदिर के दौरे को केवल राजनीतिक दांव पेंच करार दिया । वीएचपी के प्रवक्ता शरद शर्मा ने तो यहां तक कह दिया कि शिवसेना का राम मंदिर निर्माण के संघर्ष में योगदान बेहद कम है। उन्होंने कहा, ”राम मंदिर निर्माण में बजरंग दल और वीएचपी की भूमिका अहम है । बालासाहेब खुद कभी अयोध्या नहीं आए ।उद्धव ठाकरे अपनी राजनीति के लिए आ रहे हैं । राष्ट्रवादी ताक़तों के छोड़े राष्ट्रवाद का विभाजन करने वाले के साथ मिलकर वो सत्ता में बैठे हैं । अब राम का नाम तो वो सिर्फ़ राजनीति के लिए ही जपते हैं ।” वहीं हिंदू महासभा के कुछ लोग मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को काले झंडे दिखाने की योजना बना रहे है, ऐसी जानकारी है। इसीलिए पुलिस प्रशासन ने शनिवार के लिए अयोध्या में सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम किए है।

उधर, राम मंदिर निर्माण के लिए बनाए गए ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास के रुप में उद्धव ठाकरो को एक बड़े समर्थक मिले हैं। उन्होंने उद्धव ठाकरे का स्वागत करते हुए कहा, ”बालासाहब ने राम मंदिर निर्माण के लिए हमेशा सहयोग दिया ।उसी तरह उनके बेटे उद्धव ठाकरे भी अक्सर मदद करते आए हैं ।अब वो मुख्यमंत्री बन गए हैं तो उनका सहयोग हमें आगे भी मिलेगा और साथ मिलकर हम मंदिर बनाएंगे।”

हालांकि, उद्धव ठाकरे के इस दौरे पर कोरोना वायरस का संकट भी देखने को मिला. उद्धव अपने इस दौरे में पहले सरयू नदी की आरती भी करने वाले थे लेकिन कोरोना वायरस की वजह से अब आरती का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद उद्धव ठाकरे से बात कर बड़ी जनसभा आयोजित न करने की गुज़ारिश की ।

संजय राउत ने कहा, ”उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योग आदित्यनाथ के साथ मेरी बातचीत हुई । उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री जी के साथ भी बीती रात बातचीत की और उन्होंने हमसे कहा कि सरयू नदी की आरती अगर टाली जाए तो बेहतर होगा । हमने मौजूदा स्थिति को देखते हुए सरयू आरती का कार्यक्रम स्थगित किया है । कल मुख्यमंत्री राम वेला के दर्शन लेंगे और वापस मुंबई के लिए लखनऊ से रवाना होंगे। हम बाद में आकर सरयू नदी की आरती करेंगे।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!