गैरसैंण को ग्रीष्मक़ालीन राजधानी बनाने की घोषणा ऐतिहासिक- भगत

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंसीधर भगत ने मुख्यमंत्री द्वारा गैरसैंण को प्रदेश की ग्रीष्म क़ालीन राजधानी बनाने की घोषणा का स्वागत करते हुए इसे ऐतिहासिक बताया और इसके लिए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को बधाई दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री द्वारा प्रस्तुत बजट को सर्व स्पर्शी बताते हुए कहा कि यह राज्य के विकास का रोड़मेप है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंसी धर भगत ने एक बयान में कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा बजट भाषण में गैरसैण को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किए जाने का हम स्वागत करते हैं । उन्होंने इस घोषणा पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री की यह घोषणा ऐतिहासिक है और इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि इस घोषणा से भारतीय जनता पार्टी द्वारा पिछले विधान सभा चुनाव के समय अपने दृष्टि पत्र में प्रदेश की जनता से जो वायदा किया गया था वह पूरा किया गया है।
उन्होंने कहा कि गैरसैण को ग्रीष्मक़ालीन राजधानी बनाए जाने से प्रदेश के पर्वतीय इलाक़ों का विकास और तेज़ी से होगा। यह भाजपा की प्रदेश के सर्वांगीण विकास की अवधारणा को पूरा करने की दिशा में महत्वपूर्ण क़दम है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री भगत ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री रावत जिनके पास वित्त विभाग का भी प्रभार है द्वारा प्रस्तुत बजट सर्व स्पर्शी और सर्व समावेशी है। यह बजट प्रदेश के भावी विकास का रोड़ मेप भी है।
उन्होंने कहा कि इस बजट में युवाओं, महिलाओं, किसानों, अनुसूचित जातियों जनजातियों अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यकों,श्रमिकों, उद्यमियों, व्यापारियों, कर्मचारियों पूर्व सैनिकों सहित सभी वर्गों का ध्यान रखा गया है। साथ ही रोज़गार, पलायन को रोकने व रिवर्स पलायन, स्वास्थ्य, शिक्षा, आपदा प्रबंधन, कृषि विकास, पर्यटन विकास, ओद्योगिक विकास महिला कल्याण आपदा प्रबंधन समेत विभिन्न आयामों को बजट में शामिल किया गया है।
श्री भगत ने कहा कि यह बजट सबका साथ, सबका विकास व सबका विश्वास के प्रधानमंत्री जी के मंत्र को कार्यान्वित करने वाला है। इसके लिए मुख्यमंत्री जी बधाई के पात्र हैं।

वहीं उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा है कि पहाड़ की राजधानी पहाड़ पर होने से विकास की अपार संभावना बड़ेगी। श्री अग्रवाल ने कहा है कि मैंने पहले ही राजधानी पर सरकार को गंभीरता से निर्णय लेने की बात कही थी और मैं हमेशा इस बात का पक्षधर रहा हूं कि पहाड़ की राजधानी पहाड़ पर होनी चाहिए। उन्होंने कहा है कि आज उत्तराखंड के राज्य आंदोलनकारियों का सपना साकार हुआ है ।
श्री अग्रवाल ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा है कि आज उत्तराखंड के लिए होली और दिवाली एक साथ मनाने का समय आ गया है l इस अवसर पर विधानसभाध्यक्ष ने राज्य सरकार एवं मुख्यमंत्री जी का आभार व्यक्त करते हुए बधाई दी है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!