प्रसव के बाद नवजात की मौत पर बवाल, पीड़ित ने थाने पर लगयी गुहार

राजेश गुप्ता (संवाददाता)

पीलीभीत। थाना गजरौला क्षेत्र के ग्राम सिसैया निवासी सोमपाल पुत्र श्रीकृष्ण ने एक लिखित प्रार्थना पत्र पुलिस को देकर बताया कि 22 फरवरी को अपनी पत्नी सुमन को प्रसव पीड़ा होने पर गांव की आश के माध्यम से सीएचसी पूरनपुर लेकर आया, जहां कुछ घंटे उपचार के बाद प्रसव पीड़ा बढ़ी तो गांव की ही आशा ने प्रार्थी को सरकारी अस्पताल में पर्याप्त सुविधाएं और सही उपचार ना होने की बात कही जिस वजह से दोपहर आशा ने उसकी पत्नी को डॉक्टर प्राइवेट चिकित्सालय में भर्ती करा दिया । जहां पर डॉक्टर के द्वारा ₹15000 जमा करा लिए गए । बाद में निजी चिकित्सक द्वारा अप्रशिक्षित स्टाफ के साथ मिलकर शाम को उसकी पत्नी सुमन का प्रसव कराया। पीड़ित ने बताया कि प्रसव कराने के लिए डॉ अधिकृत नहीं है और प्रसव के दौरान कोई भी स्त्री रोग विशेषज्ञ मौजूद नहीं था । पीड़ित का आरोप है कि गलत तरीके से किए गए प्रसव के कारण पहले बच्चे की जन्म के कुछ देर बाद ही मृत्यु हो गई । जिसके बाद पीड़ित ने डॉक्टर तथा अप्रशिक्षित स्टाफ पर गलत तरीके से प्रसव कराने के कारण बच्चे की मौत होने का गंभीर आरोप लगाए । पीड़ित द्वारा कोतवाली पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर डॉक्टर पर कानूनी कार्यवाही की मांग की गयी है।
सूचना पर उप जिलाधिकारी तहसील पूरनपुर हरिओम शर्मा मौके पर पहुंचे तथा घटना से संबंधित जानकारी जुटाते हुए अस्पताल के सभी अभिलेख तलब किए ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!