जवाहर नवोदय विद्यालय के बच्चों को खिलायी गयी फाइलेरिया रोधी दवा

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज जवाहर नवोदय विद्यालय के प्रांगण में लगभग 500 बच्चों और अध्यापकों को फाइलेरिया रोधी दवा खिलायी गयी। इस दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 एस0के0उपाध्याय भी उपस्थित रहे। मुख्य चिकित्साधिकारी ने वहाँ उपस्थित बच्चों को दवा खिलाकर इस प्रोग्राम के महत्व को समझाया। जनपद के एकमात्र जवाहर नवोदय विद्यालय में दूर-दूर से आए बच्चों के बीच पहुंचकर मुख्य चिकित्साधिकारी ने आज अपने बचपन को याद किया और बच्चों के बीच बैठकर फाइलेरिया रोग और उससे बचाव के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर सीएमओ ने कहा कि “फाइलेरिया से व्यक्ति स्थाई अपंगता का शिकार हो जाता है यह बीमारी विशेषकर बच्चों में ज्यादा तेजी से फैलती है, जिसके लक्षण आने में कभी-कभी 10 वर्षों का समय लग जाता है।”

जिला मलेरिया अधिकारी डी0के0श्रीवास्तव ने बच्चों को बताया कि “फाइलेरिया बीमारी का प्रसार एक मच्छर के काटने से होता है इसके कीटाणु जिनको माइक्रोफाइलेरि कहा जाता है मनुष्य के रक्त में सुषुप्त अवस्था में पड़े रहते हैं तथा कभी-कभी 10 साल बाद लक्षण प्रकट होता है। ऐसी स्थिति में प्रत्येक व्यक्ति को आयु वर्ग के अनुसार इस दवा का सेवन वर्ष में एक बार अवश्य करना चाहिए। इस दवा का कोई भी दुष्प्रभाव नहीं है तथा इसके सेवन से शरीर में फाइलेरिया के जो परजीवी मौजूद रहते हैं वह मर जाते हैं।”

इस अवसर पर बच्चों के बीच मुख्य चिकित्साधिकारी ने जवाहर नवोदय विद्यालय के प्राचार्य के साथ स्वयं यह दवा खाई और अपने नाखून पर निशान भी लगवाया। समस्त शिक्षकों ने भी बच्चों के समक्ष फाइलेरिया रोधी दवा का सेवन किया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!