गाजे बाजे के साथ निकली शिव बारात,भूत पिशाच बने बराती

रमेश यादव ( संवाददाता )

– दुद्धी के शिवाला मंदिर से उठी ऐतिहासिक बारात मल्देवा स्थित कैलाश कुंज द्वार पर हुई शिव पार्वती का विवाह

– बारात में उमड़े कई गाँवो हजारों बाराती

दुद्धी।महाशिवरात्रि के अवसर पर शुक्रवार को प्राचीन शिवाला मन्दिर से कैलाश कुञ्ज व शिवशक्ति प्रबन्ध समिति के संयुक्त तत्वाधान में अड़भंगी भोले नाथ की शिव बारात गाजे बाजे के साथ निकाली गयी। जिसमें भूत,पिचास,चुड़ैल ,बानर,औघड़,राक्षस के रूप में शिवभक्त बाराती बने जो आकर्षण के केंद्र रहे। बैल गाड़ी पर सवार भगवान भोले शंकर दूल्हे के रूप में निकले वही ब्रह्मा ,विष्णु रथ पर सवार होकर पीछे पीछे बाराती बन कर निकले। बारात में कई गांवों के हजारों ग्रामीण भी बारात में शामिल हुए। शिव की भव्य बारात देखते ही बन रही थी ,बारात नगर से गुजरते समय सम्पूर्ण नगर के लोग घरों से निकल भक्ति भाव से शिव की बारात को निहारते रहे।बारात के दौरान सम्पूर्ण नगर हर हर महादेव के नारों से पूरा नगर गूंज रहा था।बारात नगर के विभिन्न मार्गों से होते हुए मल्देवा कैलाश कुंज द्वार पहुँचा जहां देवों में देव महादेव का विधि विधान से
माँ पार्वती के साथ विवाह सम्पन्न हुआ।
इस दौरान वर पक्ष से भोला आढ़ती , रामेश्वर राय, राजू बाबु , ईश्वर प्रसाद , धीरू शम्भु हलुवाई , नाजू अग्रहरि , गोरखनाथ अग्रहरि ,सतेंद्र चौरसिया के साथ तमाम गणमान्य लोग मौजूद रहे।वही सुरक्षा के दृष्टि से पर पुलिस क्षेत्राधिकारी संजय वर्मा व प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह ,क्राइम इंस्पेक्टर एस पी यादव ने पूरे रास्ते अपने हमराहियों के साथ जुलूस की अगुवाई की।

इनसेट :
अग्नि को साक्षी मान शिव पार्वती ने लिए फेरे, ब्रम्हा ,बिष्णु के साथ हजारों बाराती बने साक्षी

दुद्धी। मल्देवा स्थित कैलाश कुंज द्वार पहुँची भगवान शिव की बारात का स्वागत व अभिनंदन करते हुए कन्या पक्ष से डॉ लवकुश ,डॉ हर्ष , तारा देवी, सुनैना , मीना देवी ,ललिता देवी , उमा प्रजापति के साथ मल्देवावासियों ने पुष्प वर्षा करते हुए बारातियों का भव्य स्वागत किया।स्वागतोपरान्त जयमाल कार्यक्रम आयोजित हुआ जिसमें भगवान शंकर व माता पार्वती ने एक दूसरे को जयमाल पहनाया इसके साथ ही हर हर महादेव का उद्घोष होने लगा। पुष्प वर्षा होने के साथ मनोरम दृश्य देखते ही बन रही थी मानो देवलोक में भगवान शिव व पार्वती का विवाह देख रहे हो।इसके बाद विधि विधान से मंत्रोउच्चार से विवाह संपन्न कराया गया जिसमें भगवान शंकर व माँ पार्वती ने अग्नि को साक्षी मानकर फेरे भी लिए।विवाह का कार्यक्रम महंत महेंद्र मिश्रा ने सम्पन्न कराया।इसके बाद भव्य भंडारा का आयोजन हुआ जिसमें बारातियों के साथ हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया।

सुरक्षा के दृष्टि से चाक चौबंद ही प्रशासन की व्यवस्थ

दुद्धी। नगर में आयोजित शिवरात्रि के मेले और निकले शिवबारात में सुरक्षा के व्यापक इंतेजाम थे।जिसमें जगह जगह प्रशासन तैनात थी। सीओ संजय वर्मा पूरी गतिविधयों नजर रखे हुए थे।

गांव –गांव से उमड़े बाराती

दुद्धी।शिवरात्रि के महापर्व पर शिवाला मन्दिर से निकलने वाले बारात में गांव–गांव से बाराती गाजे बाजे के साथ पहुचे ।कस्बे से सटे गांव खजुरी ,मलदेवा ,जाबर ,धनौरा व बीडर सहित दर्जनों गांव के सैकड़ो महिलाएं व पुरुष बाराती बनकर आए ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!