आयोजित कार्यशाला में मुख्य विकास अधिकारी द्वारा बाल लिंगानुपात के प्रति लोगों को जागरूक करने के दिये निर्देश

दीनदयाल शास्त्री ब्यूरो

पीलीभीत । मुख्य विकास अधिकारी श्री श्रीनिवास मिश्र की अध्यक्षता में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं योजना के अन्तर्गत पी0सी0पी0एन0डी0टी0 अधिनियम से सम्बन्धित जागरूकता कार्यशाला का आयोजन गांधी सभागार में किया गया। आयोजित कार्यशाला में सरकारी एवं गैर सरकारी अस्पतालों के डाॅक्टर, समाजसेवी संस्थाओं के पदाधिकारी के द्वारा प्रतिभाग किया गया। आयोजित कार्यशाला में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी राजेश भट्ट द्वारा अधिनियम के सम्बन्ध में जानकारी प्रदान करते हुये कहा कि इस मुख्य उद्देश्य समाज में भ्रूण हत्या जैसी कुप्रथा पर पूर्ण प्रतिबन्धित करना है, इस अधिनियम के तहत गर्भधारण के पूर्व लिंग जांच करवाना पूर्ण प्रतिबन्धित किया गया है और ऐसा करने वाले व्यक्तियों के प्रति कठोर सजा का प्रावधान किया गया है।
आयोजित कार्यशाला में मुख्य विकास अधिकारी द्वारा उपस्थित समस्त डाॅक्टरों को सम्बोधित करते हुये कहा कि आयोजित कार्यशाला मुख्य उद्देश्य जनपद में बाल लिंगानुपात को उच्च स्तर तक लाना है और यह तभी सम्भव है जब भ्रूण हत्या जैसी कुप्रथा को पूरी तरह समाप्त करते हुये बेटियों को बेटों के सामान समझा जाये। उन्होंने कहा कि आप लोगों उच्च जागरूकता की श्रेणी में है और आपका दायित्व है कि आप अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करें। आयोजित कार्यशाला में जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद का बाल लिंगानुपात 2001 की जनगणना के सापेक्ष वर्ष 2011 की जनगणना में कम हुआ है। जिसको देखते हुये प्रधानमंत्री द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं योजना चलाई गई जिसके माध्यम से समाज में बाल लिंगानुपात को उच्च स्तर पर प्राप्त किया जाये और बेटियों को संरक्षण प्रदान करते हुये आत्मनिर्भर बनाया जा सके।
आयोजित कार्यशाला में जिला प्रोबेशन अधिकारी संजय कुमार निगम, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी राजेश भट्ट, महिला संरक्षण अधिकारी मीनाक्षी पाठक सहित सरकारी एवं गैर सरकारी डाॅक्टर व समाजसेवी संस्थाओं के पदाधिकारी उपस्थित रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!