अब बिजली कंपनियों से मुआवजा वसूल सकेंगे बिजली  उपभोक्ता

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । बिजली की शिकायतों को लेकर उपभोक्ताओं को दौड़ाना अब बिजली कंपनियों को भारी पड़ेगा। ब्रेक डाउन, केबल फॉल्ट, नया कनेक्शन, मीटर रीडिंग जैसी सेवाएँ समय पर न देने पर बिजली कंपनियों को उपभोक्ताओं को मुआवजा देना होगा। योगी सरकार ने नए स्टैंडर्ड ऑफ परफॉर्मेंस रेगुलेशन-2019 की अधिसूचना जारी कर दी है। यह कानून लागू करने वाला यूपी देश का पहला राज्य है।

नियामक आयोग के अनुसार “विद्युत उपभोक्ताओं की समस्याओं जैसे ब्रेक डाउन, केबिल फाल्ट, ट्रांसफार्मर, नया कनेक्शन, मीटर रीडिंग, लोड घटना बढ़ाना व अन्य मामलों के समाधान के लिए तय समयावधि से अधिक समय लगने पर उपभोक्ता मुआवजे के लिए दावा कर सकेंगे। मुआवजा प्रतिदिन के हिसाब से तय होगा। मुआवजे का भुगतान बिजली कंपनियाँ उपभोक्ता के बिल के भुगतान के माध्यम से करेंगी।”

इस बारे में बिजली विभाग के अधीक्षण अभियंता सर्वेश कुमार सिंह ने बताया कि “इस कानून के बारे में जानकारी मिली है कि इसे प्रदेश में लागू किया गया है लेकिन अभी इसके बारे में कोई जी0ओ0 नहीं मिला है और न ही कोई गाइडलाइन मिली है कि उपभोक्ता कैसे इसका प्रयोग करेंगे। इसके बारे में पूरी जानकारी देने में असमर्थ हुँ।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!