आदिवासियों ने मनाई डॉ मोती रावण कंगाली जयंती

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी । ब्लॉक क्षेत्र के मल्देवा गांव स्थित महारानी दुर्गावती स्मारक स्थल पर रविवार को आदिवासियों ने आदिवासी धर्म गुरु डॉ मोती रावण कंगाली की जयंती धूम धाम के साथ मनाया । सबसे पहले बावन गढ़ के देवी देवताओं की पूजा अर्चना करने के धर्माचार्य डॉ कंगाली की चित्र पर पुष्प अर्पित कर जयंती मनाई और अपने धर्म को स्थापित करने का संकल्प लिया । मुख्य अतिथि राष्ट्रीय महासचिव गोंडवाना महासभा के असर्फी सिंह परस्ते ने जयंती समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम सब आदिवासियों को संगठित होकर अपने समाज के प्रति कर्तव्य निर्वहन करना चाहिए तभी आदिवासी समाज का भला हो सकता है क्योंकि आदिवासी समाज में शिक्षा की कमी का लोग फायदा उठाते हैं इसलिए सबसे पहले आदिवासी समाज को शिक्षित होना होगा ताकि वह अपना अधिकार एवं कर्तव्य समझ सके ।सभा में सभी लोगो ने नशाउन्मूलन करने का संकल्प लिया।इसके पूर्व अतिथियों ने धनौरा स्थित नन्हकू बाबा का पूजा अर्चना की। इस दौरान ग्राम प्रधान प्रतिनिति आशीष तिवारी ने आदिवास समाज को नन्हकू बाबा का मंदिर बनवाने का आश्वासन दिया जिसकी आदिवासी समाज ने सराहना की ।

बैठक में मुख्य रूप से डॉ असर्फी सिंह, संजय सिंह, सुरेंद्र सिंह पोया, हरिप्रसाद सलबन्दी ,हीरालाल, अमर सिंह, रामधनी, अनिल सिंह, बुद्धिराम खरवार, बेचू सिंह, रामरति, रामफल, रामसिंह, रामचन्द्र, मीरा सिंह, प्रमिला सिंह, कमला देवी सहित अन्य कई लोग मौजूद रहे।कार्यक्रम का संचालन फौजदार सिंह ने किया ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!