फाइलेरिया उन्मूलन अभियान शुरू

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज फाइलेरिया (हाथीपाँव) को समूल नष्ट करने के लिये राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत “मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन : 2020” का शुभारम्भ जिला पंचायत अध्यक्ष अमरेश पटेल ने रॉबर्ट्सगंज स्थित नगरीय प्रा0स्वा0केन्द्र में फाइलेरिया की दवा खाकर किया।

इस अवसर पर उपस्थित जन समुदाय को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि “मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फाइलेरिया से प्रदेश को मुक्त करने का यह अभियान चलाया है। हम सब इस अभियान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लें। समस्त आशा बहनों से अपील करते हुये उन्होंने कहा कि एक भी घर छूटना नहीं चाहिए तथा प्रत्येक जनपदवासी को यह दवा खिलाई जानी चाहिए। उन्होंने स्वयं फाइलेरिया की दवा खाकर यह संदेश दिया कि यह दवा पूरी तरह से सुरक्षित है।”

अभियान के बारे में विस्तार से बताते हुये जिला मलेरिया अधिकारी धर्मेन्द्र श्रीवास्तव ने बताया कि “जनपद में 16 फरवरी से 29 फरवरी 2020 तक यह अभियान चलाया जायेगा। लगभग 1579 टीमों का गठन किया गया है, जो घर-घर जाकर प्रत्येक व्यक्ति को आयु वर्ग के अनुसार फाइलेरिया की दवा खिलाएंगी। दवा खिलाने के बाद लाभार्थी के बाएँ हाथ की तर्जनी ऊँगली पर मार्कर से निशान लगाना है तथा घर की दिवार पर मार्किंग करना है। यह रोग समान्यतः हाथीपाँव के नाम से जाना जाता है जो कि मादा क्यूलेक्स मच्छर के काटने से होता है।”

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बी0के0 अग्रवाल ने बताया कि “यह रोग असाध्य है। रोगी स्थाई अपंगता का शिकार हो जाता है। वर्ष में एक बार पूरी आबादी को एक साथ फाइलेरिया की दवा आयु वर्ग के अनुसार खिलाये जाने से इस रोग से मुक्ति मिल सकती है। वर्ष-2020 को फाइलेरिया मुक्ति अभियान हेतु अंतिम वर्ष के रूप में घोषित किया गया है। अतः समस्त जनपद वासियों को यह दवा आवश्यक रूप से खाना है।”

इस कार्यक्रम में डॉ0 संजय सिंह, डॉ0 प्रेमनाथ, डॉ0 जे0पी0 सिंह, शुभम, राकेश, राहुल, मनोज, सभाजीत, अरूण, चंचल, रेखा, इत्यादि उपस्थित रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!