नसबंदी के एक वर्ष बाद महिला हुई गर्भवती, लगाया लापरवाही का आरोप

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज दुद्धी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर उस समय हड़कम्प की स्थिति हो गयी जब एक विवाहिता ने दुद्धी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात एक महिला चिकित्सक पर गम्भीर आरोप लगाते हुए जमकर बवाल काटा। मजे की बात यह थी कि यह सब मुख्य चिकित्साधिकारी के सामने हुआ। महिला ने आरोप लगाया कि 3 बच्चे के बाद वह अब बच्चा नहीं चाहती थी इसलिए वह एक वर्ष पूर्व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दुद्धी में नसबंदी करवाई थी लेकिन 15 दिन पूर्व उसे गर्भ ठहरने का अहसास हुआ तो उसने यहाँ तैनात महिला डॉक्टर से चेकअप करवाया था। जहां महिला डॉक्टर ने गर्भ गिराने की राय देते हुए रुपये की मांग की। महिला के गम्भीर आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए महिला चिकित्सक ने कहा कि यहां अस्पताल में जच्चा-बच्चा के स्वास्थ्य हितों में इलाज किया जाता है न कि किसी प्रकार की गर्भपात। महिला चिकित्सक ने बताया कि यह महिला कुछ दिन पहले यहां जांच कराने आयी थी, जिसके लिए उन्होंने अल्ट्रासाउंड को लिखा था लेकिन वह दोबारा नहीं आयी।
महिला चिकित्सक का कहना है कि महिला के परिजन दबाव बना कर एक लाख रुपये की मांग कर रहें है और तरह तरह के आरोप लगा रहे हैं जो आरोप निराधार है।

“बहरहाल इस पूरे मामले पर कोई अधिकारी बोलने को तैयार नहीं। लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर जिस भरोसे के साथ महिला ने नसबंदी कराई थी उसके बाद न सिर्फ महिला का भरोसा टूटा है बल्कि उसे तमाम परेशानियों से जूझना भी पड़ रहा है।”

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!