विज्ञान महोत्सव में बच्चों ने भारतीय वैज्ञानिकों के बारे में जाना

सुशील कश्यप/ईशान अवस्थी (संवाददाता)

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में जिला विज्ञान क्लब, पीलीभीत द्वारा भारतीय विज्ञान एवं भारतीय वैज्ञानिकों पर दो दिवसीय जनपद स्तरीय विज्ञान महोत्सव का शुभारंभ सनातन धर्म बाँके बिहारी राम इंटर कॉलेज पीलीभीत में किया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ मुख्य अतिथि मुख्य विकास अधिकारी पीलीभीत रमेश चन्द्र पाण्डेय ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके किया। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि जिला विकास अधिका रहे। मुख्य अतिथि रमेश चन्द्र पाण्डेय ने बताया कि भारतीय विज्ञान प्राचीन समय से ही विश्व में अपनी विशेष पहचान बनाये हुए है। भारतीय वैज्ञानिकों के द्वारा किया गया कार्य विश्व के लिये एक मिसाल रहा है। आज के विधार्थी ही कल के वैज्ञानिक होंगे इसलिये सभी विधार्थी वैज्ञानिक गतिविधियों में सक्रिय रूप से प्रतिभागिता करें और वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाये। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि योगेन्द्र कुमार पाठक ने बताया कि अशिक्षित महिलाएं अंधविश्वास के चंगुल में आसानी से फंस जाती हैं अतः हमें बालिका शिक्षा को बढ़ावा तथा जन जागरण अभियान चलाकर इनका पर्दाफाश करना चाहिए। जिला विज्ञान क्लब इस दिशा में एक अच्छा प्रयास कर रहा है। जिला समन्वयक चंद्र पाल गंगवार ने बताया जहां एक ओर हमारे देश में वैज्ञानिक मंगल ग्रह तथा चंद्रमा पर जीवन तलाश रहे हैं, वहीं दूसरी ओर समाज में अवैज्ञानिक क्रियाकलापों का माहौल देखने को मिलता है। शिक्षक सन्तोष कुमार खरे ने बताया कि आज गांव में ही नहीं वरन शहरों में भी जगह-जगह पर ढोंगी व पाखंडी बाबाओं के चमत्कार और तांत्रिकों का जाल फैला हुआ है जो विज्ञान के प्रयोगों का सहारा लेकर अपने आप को प्रतिष्ठित चमत्कारी बाबा सिद्ध करने का दंभ भरते हैं जिससे समाज में अव्यवस्था के साथ-साथ जन-धन की हानि तथा बलि जैसे अपराधों को बढ़ावा मिल रहा है अतः ऐसे समाज विरोधी और मानव जीवन के लिए घातक व्यक्तियों तथा इनके द्वारा दिखाए जाने वाले अलौकिक चमत्कारों के पीछे छुपे विज्ञान को बताना तथा भारतीय विज्ञान एवं भारतीय वैज्ञानिकों के जीवन एवं कार्यों से परिचय कराना ही इस कार्यक्रम का मूल उद्देश्य है। रिसोर्स पर्सन लक्ष्मीकांत शर्मा एवं उर्मिला देवी ने विभिन्न अलौकिक चमत्कार दिखाकर उनके पीछे छुपे वैज्ञानिक कारणों की विस्तार से व्याख्या की। इनके द्वारा की गई गतिविधियों में बिना माचिस जलाएं आग जलाना, वाटर ऑफ इंडिया, आंख पर पट्टी बांधकर पढ़ना आदि चमत्कारी विधियां दिखाकर सभी के पीछे छुपे विज्ञान की व्याख्या की। कार्यक्रम में छात्र एवं छात्राओ ने भाषण, पोस्टर, क्विज़, अखबार कटिंग, कविता प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। जूनियर वर्ग की भाषण प्रतियोगिता में मधु गंगवार ने प्रथम, लक्ष्य शर्मा ने द्वितीय, तनु ने तृतीय, कृतिका व समद ने सान्तवना पुरस्कार व सीनियर वर्ग में वैभव अवस्थी ने प्रथम, शिवानी ने द्वितीय, निखिल ने तृतीय, अमोघ पाठक व शाजिया नूरी ने सान्तवना पुरस्कार, जूनियर वर्ग में कविता प्रतियोगिता में फिजा ने प्रथम, खुशबू ने द्वितीय, नित्या ने तृतीय, आमरीन व ज्योति ने सान्तवना पुरस्कार, सीनियर वर्ग में दीपांशी गुप्ता ने प्रथम, अदिती शर्मा ने द्वितीय, अभय पाण्डेय ने तृतीय, कोमल व ध्रुव ने सान्तवना पुरस्कार, जूनियर वर्ग मे पोस्टर प्रतियोगिता में अनन्या ने प्रथम, मधु ने द्वितीय, अल्बी ने तृतीय स्थान, अमन दत्त व प्राची ने सान्तवना पुरस्कार व सीनीयर वर्ग में अकांक्षा ने प्रथम, देवांश ने द्वितीय, मंगलम ने तृतिय, नीतेश व कोमल ने सान्तवना पुरस्कार, जूनियर वर्ग के अखबार कतरन प्रतियोगिता में सिधार्थ ने प्रथम, शशी ने द्वितीय, रिफा ने तृतीय, रैमीम व सोनम ने सान्तवना पुरस्कार, सीनियर वर्ग में देवेश ने प्रथम, प्रिन्स ने द्वितीय, गरिमा ने तृतीय, सुरभि व अंजलि ने सान्तवना पुरस्कार व जूनियर वर्ग की क्विज़ प्रतियोगिता में नमन ने प्रथम, अन्शिका ने द्वितीय व शगुन गंगवार ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। प्रथम द्वितीय, तृतीय स्थान व सान्तवना पुरस्कार प्राप्त करने वाले वाली छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र एवं पुरस्कार प्रदान कर पुरस्कृत भी किया गया।निर्णायकों ने प्रदीप, प्रभात कुमार, अनुप, लक्ष्मीकांत शर्मा, ओम प्रकाश वर्मा, के के सिंह, अमित कुमार, भूपेन्द्र सिंह, राजीव वर्मा, नीतू सिंह, सुनैना, स्वाति, दिव्या, डॉक्टर इकबाल हुसैन रहे। जागरूकता कार्यक्रम में जनपद के सभी माध्यमिक व बेसिक विद्यालयों के लगभग 354 छात्र-छात्राओं, 73 शिक्षकों व 166 अभिभावकों ने प्रतिभाग किया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!