दिल्ली चुनाव में हार के बाद प्रदेश अध्यक्ष का पद से इस्तीफा

विधानसभा चुनाव में एक बार फिर शून्य सीटें हासिल करने के बाद सुभाष चोपड़ा ने दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया । हार की जिम्मेदारी लेते हुए सुभाष चोपड़ा ने ये इस्तीफा दिया है । विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी ने 62 और बीजेपी ने 8 सीटें जीती हैं । कांग्रेस को लगातार दूसरी बार बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा है, 70 सीटों में से एक भी सीट कांग्रेस जीतने में नाकाम रही ।

सुभाष चोपड़ा ने कहा, “मैंने हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है । अब आलाकमान को मेरे इस्तीफे पर निर्णय लेना है।”

बता दें, सुभाष चोपड़ा को पिछले साल अक्टूबर में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किया गया था ।72 वर्षीय चोपड़ा पहले भी 1998 से 2003 तक दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे हैं । वह 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार कालकाजी विधानसभा सीट से विधायक भी रहे हैं । उन्होंने जून 2003 से दिसंबर 2003 तक दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष की भूमिका निभाई ।

कांग्रेस का खाता तक ना खुल पाने के बाद शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित पार्टी नेताओं पर जमकर बरसे । पूर्वी दिल्ली से सांसद रह चुके संदीप दीक्षित ने कहा कि कांग्रेस की ऐतिहासिक हार के लिए कांग्रेस खुद जिम्मेदार है, क्योंकि बीजेपी धर्म बांटने में रही, ‘आप’ लोकलुभावन वादे में रही और कांग्रेस सिर्फ अहंकार में रही ।

न्यूज़18 से बात करते हुए सांदीप दीक्षित ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी के बयान का समर्थन किया । उन्होंने कहा, ‘लेकिन मुझे नहीं लगता कि पार्टी नेतृत्व इतनी बड़ी हार के बाद भी कोई कड़ा निर्णय ले पाएगी । कांग्रेस के नेता पार्टी को कम और खुद के स्वार्थ को आगे रखते हैं । आगे उन्होंने कहा कि शीला दीक्षित को बदनाम करने का काम जिन लोगों ने किया, वही आज भी कांग्रेस की कब्र खोद रहे हैं ।

पार्टी की हार पर शर्मिष्ठा मुखर्जी ने खड़े किए सवाल
बता दें कि कांग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेता एवं पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने एक ट्वीट जारी करते हुए दिल्ली में पार्टी की हार पर जमकर सवाल खड़े किए हैं. शर्मिष्ठा ने इसके लिए पार्टी आला कमान को भी जिम्मेदार ठहराया है. इसके साथ राज्य स्तर पर एकता की कमी को भी उन्होंने हार की वजह बताया है.

‘आत्मनिरीक्षण बहुत हो चुका अब एक्शन का वक्त है’
वरिष्ठ कांग्रेस लीडर शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ट्वीट करते हुए कहा, “हमने दिल्ली में एक बार फिर नाश कर दिया है. आत्मनिरीक्षण बहुत हो चुका अब एक्शन का वक्त है. टॉप लेवल पर निर्णय लेने में हुई देरी और रणनीति की कमी और राज्य स्तर पर एकता की कमी, निरुत्साही कार्यकर्ताओं के साथ ही जमीनी आधार पर कनेक्टिविटी न होना सभी फैक्टर रहे जो हार का कारण बने. सिस्टम का हिस्सा होने पर मैं भी अपने हिस्से की जिम्मेदारी लेती हूं.’


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!