समान नागरिक संहिता राष्ट्र की एकता एवं अखण्डता के लिए आवश्यक : डॉ0 दिलीप कुमार सिंह

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज छपका स्थित राजकीय महिला महाविद्यालय में एन0एस0एस के विशेष शिविर के पॉचवें दिन की शुरुआत छात्रा कु0 सीमा के द्वारा सरस्वती वन्दना से हुई। इसके बाद एन0एस0एस0 गीत एवं लक्ष्य गीत सकीना, सीमा, अभिरुचि, आकांक्षा एवं स्वागत गीत प्रतिमा द्वारा प्रस्तुत किया गया। शिविर के 5 वें दिन के प्रथम सत्र का विषय “नीति निदेशक तत्व एवं समान नागरिक संहिता” रहा। इस विषय के मुख्य वक्ता राजनीति शास्त्र के विभाग प्रभारी डॉ0 दिलीप कुमार सिंह ने कहा कि समान नागरिक संहिता राष्ट्र की एकता एवं अखण्डता के लिए आवश्यक है। हमारे संविधान निर्माताओं ने व्यापक चर्चा के उपरान्त इसे राज्य के नीति निदेशक तत्वों के अर्न्तगत अनु0 44 के रुप में स्थान दिया। मा0सर्वोच्च न्यायालय द्वारा समय-समय पर इसकी आवश्यकता के सन्दर्भ में विचार प्रस्तुत करने बाद भी हमारी सरकारें, इसके प्रति उदासीन बनी हुई है।
द्वितीय सत्र के संगोष्ठी का विषय “भारतीय लोकतन्त्र एवं चुनाव सुधार” था। इस सत्र में मुख्य वक्ता अंग्रजी विभाग प्रभारी डॉ0 गिरीश कुमार रहे। इस विषय पर विचार व्यक्त करते हुए मुख्य वक्ता ने कहा कि भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था मे चुनाओं का विशेष महत्व है। चुनाव के माध्यम से हम अपने प्रतिनिधियों का चुनाव करते हैं, जो हमारे ऊपर शासन करते है। कलान्तर मे भारतीय चुनाव प्रक्रिया में अनेक दोष आ गये है, जिन्हें दूर करने के लिए समय-समय पर अनेक समितियॉ गठित की गयी।

उक्त प्रयासों के बावजूद अभी भी हमारी चुनावी प्रक्रिया में अनेक कमियॉ मौजूद है, जिसे दूर करने की आवश्यकता है। इस अवसर पर छात्राओं को निष्पक्ष एवं स्वतंत्र चुनाव मे मतदान करने की शपथ दिलायी गयी। तत्पश्चात महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ0 वन्दना ने कार्यक्रम के अन्त में बच्चों का उत्साहवर्धन किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ0 आनन्द कुमार ने किया। इस अवसर पर डॉ0 वन्दना, गिरीश कुमार, डॉ0 दिलीप कुमार सिंह, कार्यालय वरिष्ठ सहायक किशन लाल एवं कर्मचारी अशोक कुमार आदि उपस्थित रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!