जांच करने पहुंची राजस्व व प्रदूषण विभाग की टीम

राजेश गुप्ता (संवाददाता)

जहां सरकार बेरोजगारों को स्वरोजगार देने की बात कर रही हैं, वही सरकारी कर्मचारी कैसे स्वरोजगार कर रहे परिवार को बेरोजगार करने में जुटी है इसकी बानगी जिले में देखा जा सकता है । स्वरोजगार कर रहा एक परिवार बार बार जांच के नाम पर परेशान हो रहा है ।

ग्राम पंचायत सरौरी ग्राम में रहने वाले एक व्यक्ति ने शिकायत की कि मिनी प्लांट से उसके मकान पर प्रभाव पड़ रहा आज शिकायतकर्ता की शिकायत पर जांच करने पहुंची राजस्व व प्रदूषण विभाग की संयुक्त टीम ने पूरे मामले की गहनता से शिकायत की । बतातें चलें कि पूर्व में भी शिकायत पर जांच की गई थी, जिसमें कहा गया था कि मिनी प्लांट से शिकायतकर्ता के मकान पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि यह सब आपसी रंजिश के चलते ही किया जा रहा है, मिनी प्लांट से मकान पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ रहा है। बहरहाल जांच अधिकारियों ने मीडिया को कुछ भी बताने से मना कर दिया । लेकिन दबी जुबान से अधिकारी ने बताया कि मिनी प्लांट में कुछ कमियां हैं उनमें सुधार करने के लिए मिनी प्लांट मालिक को निर्देश दिए गए हैं।
बहरहाल जांच रिपोर्ट के बाद प्लांट मालिक के ऊपर क्या कार्यवाही होगा यह तो भविष्य की बात है मगर परिवारी जनों का कहना है कि अगर उनका यह मिनी प्लांट बंद कराया जाता है तो सरकार उन्हें पेंशन दे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!