29 फरवरी को डायट परिसर में होगा सामूहिक कन्या विवाह का आयोजन

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । अपर श्रम आयुक्त विन्ध्याचल मंडल, पिपरी सरजू राम ने जानकारी देते हुए बताया कि उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड लखनऊ के निर्देशानुसार हितलाभ प्राप्त करने के लिए निर्माण श्रमिक के पंजीयन की अवधि एक वर्ष से एक सप्ताह पहले वर-कन्या को वैवाहिक वस्त्र क्रय करने के लिए 5 हजार प्रत्येक की दर से धनराशि दिये जाने के उपरान्त सामूहिक विवाह में प्रतिभाग न करने पर सामान्यतया देय अनुदान की धनराशि से वैवाहिक वस्त्र खरीदने के लिए भुगतान की गई धनराशि का समायोजन कर लिया जायेगा। पंजीकृत महिला निर्माण श्रमिक के पुनर्विवाह के लिए हितलाभ उसी दशा में देय होगा जबकि उसका विवाह विच्छेदन वैधानिक रूप से हुआ हो अथवा उसके पति की मृत्यु हो जाने पर उसके द्वारा पुनर्विवाह किया जा रहा है।
इस प्रकार संशोधनोपरान्त योजना का स्वरूप यह है कि श्रम विभाग में बोर्ड के अन्तर्गत कम से कम 100 दिन पूर्व से पंजीकृत निर्माण श्रमिक अपनी दो पुत्रियों की सीमा तक निर्माण कामगार कन्या विवाह योजना का हितलाभ प्राप्त कर सकते हैं। पुत्री की आयु 18 वर्ष तथा वर की आयु 21 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए। 100 दिन पूर्व से पंजीकृत महिला निर्माण श्रमिक अपने स्वयं के विवाह के लि भी हितलाभ प्राप्त कर सकती है तथा अपने पुनर्विवाह के लिए हितलाभ उस स्थिति में प्राप्त कर सकती है यदि उसके पति से वैधानिक रूप से विवाह विच्छेदन हो चुका हो अथवा उसके पति की मृत्यु हो चुकी हो। हितलाभ प्राप्त करने के इच्छुक पंजीकृत निर्माण श्रमिक निर्धारित प्रारूप् पर आवेदन पत्र भर कर, अपना फोटोग्राफ, पुत्री का फोटोग्राम एवं वर का फोटोग्राम, बैंक खाता की पासबुक की छायाप्रति, आधार कार्ड की छायाप्रति, अद्यतन परिवार रजिस्टर की सत्यप्रति, कन्या एवं वर की उम्र सम्बन्धी साक्ष्य विद्यालय का प्रमाण-पत्र/अंकपत्र या परिवार रजिस्टर की प्रति, ग्राम प्रधान/तहसीलदार/सभासद/पार्षद अथवा ग्राम विकास अधिकारी द्वारा जारी सामूहिक विवाह हेतु प्रमाण-पत्र संलग्न करते हुये निकटतम श्रम कार्यालय में जमा कर सकते हैं।

आर्थिक सहायता- पंजीकृत निर्माण श्रमिक की पुत्र के विवाह के लिए रू0 55 हजार अंतर्जातीय विवाह के लिए 61 हजार तथा सामूहिक विह में प्रतिभाग करने पर 65 हजार देय है। इसके अलावा सामूहिक विवाह में प्रतिभाग करने वाले वर-कन्या के वैवाहिक वस्त्रों के क्रय के लिए 5 हजार प्रत्येक की दर से धनराषि सामूहिक विवाह से एक सप्ताह पहले निर्माण श्रमिक के खाते में जमा कर दी जायेगी तथा यदि सामूहिक विवाह में प्रतिभाग नहीं करते हैं तो सामान्यतया देय धनराषि से उसका समायोजन कर लिया जायेगा।
उन्होंने बताया कि मीरजापुर मंडल का सामूहिक कन्या विवाह कार्यक्रम 29 फरवरी 2020 को डायट मैदान, राबर्ट्सगंज में सम्पादित किया जाना निश्चित हुआ है। इस कार्यक्रम में श्रम एवं सेवायोजन मंत्री उत्तर प्रदेश तथा अन्य जन प्रतिनिधियों, गणमान्य व्यक्तियों को कोई खर्च नहीं करना पड़ेगा तथा वैवाहिक कार्यक्रम एवं विवाह भोज आदि का समस्त व्यय बोर्ड के द्वारा वहन किया जायेगा। अतः भदोही, मीरजापुर एवं सोनभद्र के पंजीकृत श्रमिकों से अनुरोध है कि वे अपनी पुत्रियों का विवाह उक्त सामूहिक कन्या विवाह कार्यक्रम में शामिल करायें और देय अनुदान प्राप्त करें। उक्त जानकारी सूचना विभाग के नेसार अहमद ने दी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!