ओवरलोडिंग व अवैध परिवहन को लेकर डीएम सख्त

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

ओवरलोडिंग व अवैध परिवहन के नियत्रंण संबंधी समीक्षा बैठक करते डीएम व एसपी

– जिले में ओवरलोडिंग रोकने के लिए प्रशासन सख्त

– छत्तीसगढ़ व मध्य प्रदेश से खनन सामग्री लोड करके आने वाली गाड़ियों की जाए जाँच

– खनन सामग्री से लदे वाहनों को वाहन चालक व खलासी अगर गाड़ी को छोड़कर भागे तो चक्का लॉक कर करें वाहन सीज

– जहां पर वाहन तेज चलाकर भागने की आशंका हो, वहां पर जिक-जैक टेम्परेरी बैरियर की करें व्यवस्था

सोनभद्र । “जिले में ओवर लोडिंग व अवैध खनन परिवहन को पूरी तरीके से नियंत्रित किया जाय। किसी भी हाल में नियम विरूद्ध जिले में ओवर लोडिंग व अवैध खनन परिवहन न होने पायें। जरूरत के मुताबिक जॉच टीमें मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ से खनन सामग्री लोड करके आने वाली गाड़ियों की जॉच की जाय। उप जिलाधिकारी व पुलिस क्षेत्राधिकारी टीम बनाकर प्रवर्तन कार्य करने के साथ ही अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह के नेतृत्व में गठित टीम भी पूरी तत्परता के साथ लगकर जिले में ओवर लोडिंग व अवैध खनन परिवहन को पूरी तरीके से नियंत्रण में रखें।”
उक्त निर्देश जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम व पुलिस अधीक्षक आशिष श्रीवास्तव ने जिले में ओवरलोडिंग व अवैध खनन परिवहन को नियंत्रित किये जाने सम्बन्धी समीक्षा बैठक में सम्बन्धितों को दिया। वरिष्ठ अधिकारियों ने मौके पर मौजूद सम्बन्धितों को दिया। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ से खनन सामग्री लेकर सोनभद्र जिले में दाखिल होने वाली गाड़ियों की जॉच की जाय और नियम विरूद्ध पाये जाने पर मुकदमा दर्ज कराते हुए कार्रवाई की जाय। उन्होंने कहा कि जॉच के दौरान खनन सामग्री से लदे वाहनों को वाहन चालक व खलासी अगर गाड़ी को छोड़कर भागते हैं, तो गाड़ी का चक्का लाक करके गाड़ी को सीज करने की कार्रवाई की जाय। उन्होंने कहा कि जिले में स्थापित दोनों टोलटैक्स पर बायें तरफ की लेन से ही खनिज सामग्री की गाडि़यां जायें, जिससे ओवरलोडिंग की रिपोर्ट आसानी से संकलित हो और टोलवेज के अधिकारी नियमित रूप से रिपोर्ट जिला प्रशासन को ओवरलोड गाड़ियों की सूचना उपलब्ध कराते रहें। उन्होंने कहा कि जहां पर वाहन तेज चलाकर भागने की आशंका हो, वहां पर जिक-जैक टेम्परेरी बैरियर की भी व्यवस्था की जाय। ऐसा साफ्टवेयर तैयार किया जाय कि टोलप्लाजा से ओवरलोड गाड़ी जो पार करें, उसका चालान टोलटैक्स पर ही आनलाईन ऑटोमैटिक सिस्टम से हो। उन्होंने कहा कि गाड़ियों के जीपीएस पर भी निगरानी रखी जाय। उन्होंने लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया कि वे ओवर लोडिंग नियंत्रण के लिए हाईगेज की व्यवस्था करें।


बैठक में जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम व पुलिस अधीक्षक आशिष श्रीवास्तव के अलावा अपर जिलाधिकारी योगेन्द्र बहादुर सिंह, डिप्टी कलेक्टर डॉ0 कृपा शंकर पाण्डेय, जैनेन्द्र सिंह, एआरटीओ ए0के0 मिश्रा, पी0एस0 राय, खान अधिकारी ए0के0 राय, अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग चन्द्र प्रकाश, टोलवेज के अधिकारीगण सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण मौजूद रहें।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!