जल्द ही सोनभद्र में पर्यटन का लुफ्त उठाते दिखेंगे विदेशी सैलानी

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । “दुनिया के सबसे बड़े फासिल्स का गौरव सोनभद्र जिले का हासिल है, सोनभद्र जिले के सलखन फासिल्स पार्क को राष्ट्रीय ही नहीं अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए सभी बेहतर कमद उठाये जायें। वाराणसी में आने वाली विदेशी शैलानियों को सोनभद्र के पर्यटन स्थलों के साथ ही विशेष रूप से डेढ़ करोड़ वर्ष से ज्यादा पुराने फासिल्स देखने के लिए आकर्षित किया जाय, इसके साथ ही शिवद्वार, विजयगढ़ किला, अबाड़ी सहित जिले के अन्य पर्यटन स्थलों का व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाय। टूरिज्म डायरेक्ट्री यानी फोटोग्राफ्स सहित संक्षिप्त विवरण का बोर्ड लगाने के साथ ही टूरिज्म गाईड डेवलेपमेन्ट व काफी टेबिल की व्यवस्था के साथ ही जिले के पर्यटन स्थलों के भ्रमण हेतु बस की भी सुविधा मुहैया करायी जायेगी।”

उक्त बातें जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने जिले में पर्यटन के विकास यानी विश्व प्रसिद्ध सलखन फासिल्स पार्क को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने के निमित्त समन्वय बैठक करते हुए कही। जिलाधिकारी ने पर्यटन व वन विभाग के पदाधिकारियों को दायित्वबोध कराते हुए कहा कि सलखन फासिल्स पार्क, डाला में स्थित मॉ वैष्णों मंदिर, अबाड़ी यानी सोनभद्र का मिनी गोवा, महुअरिया, कण्डाकोट, विजयगढ़ किला, शीवद्वार, हाथीनाला-डायवर्सिटी पार्क सहित जिले के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल/पुरातात्विक एवं ऐतिहासिक स्थलों से प्रदेश, देश व दुनिया के विभिन्न देशों से आने वाली पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराकर आकर्षित किया जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि वन क्षेत्रों में बनने वाली सड़कों या चौड़ीकरण होने वाली सड़कों के सम्बन्ध में ग्राम स्तरीय वनाधिकार समिति से नियमानुसार प्रस्ताव पास कराकर तहसील स्तरीय वनाधिकार समिति के संस्तुति के साथ जिला स्तरीय वनाधिकार समिति के समक्ष प्रस्तुत किया जाय। उन्होंने कहा कि पिपरी से सम्बन्धित वन भूमि के प्रकरणों का निस्तारण नियमानुसार वन विभाग, राजस्व विभाग व नगर विकास विभाग आपसी समन्वय बनाकर कार्य को पूरा करें।
बैठक में जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम के अलावा अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहें।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!