भोजन दौरान पानी पीना जानें कितना है सही,जानें

हमने माता-पिता, दादा-दादी या अन्य बड़े-बूढ़ों से कई बार सुना है कि भोजन करते समय पानी नहीं पीना चाहिए। यह पाचन के लिए बुरा है। बहरहाल, यह उन भ्रांतियों में से एक है जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक चली गई हैं और लोग इसे सच मानते हैं। कई लोगों का मानना है कि खाते समय पानी पीना भोजन को पचाने वाले खास रस (डाइजेस्टिव जूस) को पतला करता है, भोजन के टूटने में दखल देता है, पोषक तत्वों के पाचन में बाधा पैदा करता है। ऐसा करने से पेट फूलने लगता है। सच्चाई यह है कि ये सभी दावे आधारहीन हैं। भोजन के दौरान पानी पीना वास्तव में पाचन प्रक्रिया को सुचारू बनाने में मदद कर सकता है।

www.myUpchar.com से जुड़े आयुर्वेदिक डॉक्टर डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि कई डॉक्टर भोजन के बीच में पानी पीने की सलाह नहीं देते हैं, लेकिन आयुर्वेद इस बात का समर्थन नहीं करता है। आयुर्वेद के अनुसार, भोजन के बीच में पानी पी सकते हैं।

साथ ही यह समझने के लिए कि पानी पाचन में कैसे मदद करेगा, लोगों को सबसे पहले सामान्य पाचन प्रक्रिया को समझने की जरूरत है। जैसे ही हम खाना चबाना शुरू करते हैं तो मुंह में पाचन शुरू हो जाता है। लार में एंजाइम होते हैं जो भोजन में शामिल होते हैं और इसे तोड़ने में मदद करते हैं। इसके बाद भोजन भोजन नली से नीचे चला जाता है, जहां शरीर में मौजूद अम्लीय गैस्ट्रिक जूस इसमें मिलते हैं। इससे भोजन एक मोटे तरल में बदल जाता है। अब यह छोटी आंत में जाता है, जहां अग्नाशय से पाचन एंजाइम और लिवर से पित्त एसिड मिलाया जाता है। यह पाचन का वह चरण है, जहां पोषक तत्वों का अवशोषण 75 प्रतिशत होता है। केवल एक छोटा सा हिस्सा बड़ी आंत में पहुंचता है और फिर उत्सर्जित होता है। भोजन को पचाने की यह पूरी पाचन प्रक्रिया 24 से 72 घंटे तक चलती है। रक्त प्रवाह से, पोषक तत्व आपके शरीर के कई जगहों पर जाते हैं।

क्या पानी से पाचन समस्याएं होती है? इसके जवाब में कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों का जवाब ‘नहीं’ है। वे इस दावे का खंडन करते हैं कि पानी पेट में डाइजेस्टिव जूस को पतला करेगा। वे कहते हैं कि आपके पेट में पानी भोजन के पाचन में बाधा नहीं बनेगा।

पेट में पानी का पाचन आमतौर पर लगभग 20 मिनट तक होता है। तो, कोई भी संभावित डाइलूशन क्षणिक होगा और भोजन के पाचन को प्रभावित नहीं करेगा। पानी एंजाइम गतिविधि में हस्तक्षेप नहीं करेगा, क्योंकि एंजाइम पानी की उपस्थिति की परवाह किए बिना भोजन को तोड़ देंगे। भोजन के दौरान पानी पीने से पेट की अम्लता भी प्रभावित नहीं होती है। आप पेट में एक विशेष भोजन को पचाने के लिए उतने ही एसिड का उत्पादन करेंगे। भोजन के साथ पानी पीने से पेट खाली होने की दर प्रभावित नहीं होती है।

भोजन करते समय पानी पीना पाचन प्रक्रिया में वास्तव में सहायता कर सकता है। चबाने के दौरान भोजन को नरम करने में मदद कर सकता है और भोजन नली में नीचे ले जाना आसान बनाता है। यह मलत्याग में भी सहायता कर सकता है। मल को नरम बनाकर और आंत के माध्यम से आगे बढ़ने में मदद करता है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!