उभ्भा नरसंहार : 5 पुलिस कर्मियों पर लगा एक महीने के वेतन का अर्थदंड

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । यूपी के इतिहास में अब के सबसे बड़े सोनभद्र के उभ्भा नरसंहार की जांच रिपोर्ट बुधवार देर रात रेणुका कुमार ने सौप दी । कमेटी ने 500 पेज की रिपोर्ट 600 पेज के एंक्लोजर के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपी । इस जांच रिपोर्ट में लगभग 660 करोड रुपए की 6602 एकड़ सरकारी जमीन पर रसूखदार लोगों का कब्जा बताया गया है ।
इस रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के बाद सोनभद्र पुलिस अधीक्षक ने अपना एक बयान जारी कर बताया कि उभ्भा कांड में घोरावल में तैनात 5 पुलिस कर्मियों की भूमिका भी संदिग्ध पाई गई थी । जिसके सम्बन्ध में जांच कराई गई । जिसमें यह साफ हो गया कि उक्त पुलिस कर्मियों ने पक्षपात पूर्ण कार्यवाही किया था । जिसके सम्बन्ध में उन पर विभागीय कार्यवाही के साथ एक महीने के वेतन का अर्थदंड भी लगाया गया है । पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने बताया जिनपर कार्यवाही की गई है उनमें नि0 शिवकुमार मिश्रा, वर्तमान तैनाती आजमगढ़, नि0 मुलचन्द चौरसिया वर्तमान तैनाती मऊ, मु.आ. कन्हैया प्रसादवर्तमान तैनाती मऊ, मु.आ. सुधाकर यादव, वर्तमान तैनाती पावर कारपोरेशन थाना राबर्ट्सगंज, का0 प्रमोद प्रताप सिंह वर्तमान तैनाती बलिया है ।

आपको बतादें कि जुलाई-2019 में घोरावल थाना क्षेत्र के उभ्भा में जमीन विवाद को लेकर 11लोगों की हत्या कर दी गयी थी जबकि 27 लोग घायल थे । घटना के बाद न सिर्फ पूरे देश में हड़कम्प मच गया था बल्कि सियासत भी तेज हो गयी थी । कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी समेत कई बड़े नेता दौरा कर मामले को गर्म कर दिया था । जिसके बाद सीएम योगी ने आकर पूरे घटना की जांच के आदेश देते हुए कहा कि यह कांग्रेस का पाप है ।
बहरहाल 600 पन्ने की जांच रिपोर्ट आ गयी है । सब देखने वाली बात यह है कि जांच रिपोर्ट में किस किस का पाप छिपा है ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!