कड़ाके की ठंड से एक बंदर की मौत, जनजीवन अस्तव्यस्त, नहीं जल रहा अलाव

पी0 के0 विश्वकर्मा (संवाददाता)

* ठंड से बेजुबान बंदर की मौत

कोन । लगातार एक हफ्ते से शीतलहरी से जनजीवन अस्त-व्यस्त है । लोग घरों में दुबके हुये है । ठंड के कारण बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ है । किसी प्रकार लोग जान बचा रहे है । कोन क्षेत्रवासियों की माने तो आये दिन कोन बस स्टैंड पर बुजुर्ग राहगीरों को ठंड से ठिठुरते देखा जा रहा है । लेकिन अलाव नदारत है । अलाव कहीं नही जल रहा है । जबकि प्रत्येक वर्ष शासन-प्रशासन द्वारा तीन सार्वजनिक स्थलों पर अलाव जलवाया जाता है । परन्तु वर्तमान समय में हाड़ कपाने वाली ठंड में भी अलाव न जलने से ग्रामीणों में आक्रोश देखा जा रहा है । वही जंगल से भागकर आया कोन कस्बे में ठंड से एक बंदर की मौत हो गयी। क्षेत्र के ग्रामीणों ने जिला प्रशासन का ध्यान इस ओर आकर्षित कराते हुये सार्वजनिक स्थलों पर अलाव समेत गर्म कपडे बटवाने की गुहार लगाई है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!