कर्मनाशा पुल क्षतिग्रस्त के बाद सोनभद्र में ओवरलोड वाहनों से चोपन पुल पर बढ़ा दबाव

आनन्द कुमार चौबे/घनश्याम पांडेय (संवाददाता)

– चंदौली मार्ग बंद होने से सोनभद्र में ओवरलोड वाहनों का संचालन बढ़ा

– जिलाधिकारी ने कहा- जल्द इसके लिए तैयार किया जाएगा प्लान

सोनभद्र । चंदौली में कर्मनाशा पुल क्षतिग्रस्त होने से पुल से भारी वाहनों का संचालन बन्द कर दिया गया है। चंदौली प्रशासन ने भारी वाहनों के रोक के साथ रूट डायवर्जन जारी किया है। जिसके बाद पिछले दो दिनों से सोनभद्र में ओवरलोड ट्रकों का आवागमन बढ़ गया। अचानक ओवरलोड ट्रकों का आवागमन बढ़ जाने से चोपन पुल पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। वैसे ही चोपन सोन नदी पर बने दो पुलों में से एक पुल का ही संचालन किया जा रहा है। ऐसे में क्षेत्रीय लोगों की चिंता इस बात को लेकर बढ़ गयी है कि ओवरलोड वाहन यदि इसी रफ्तार से एक ही पुल से निकलता रहा तो कहीं पुल पर खतरा न मंडराने लगे।लेकिन गाड़ियों के संचालन बढ़ जाने से परिवहन विभाग जरूर निश्चिंत है। जिलाधिकारी के आदेश के बाद टोल प्लाजा की रिपोर्ट के आधार पर ओवरलोड वाहनों के चालान से परिवहन विभाग को बैठे-बिठाए अच्छा खासा राजस्व प्राप्त हो रहा है।

इस पूरे मामले पर जिलाधिकारी ने कहा कि “गाड़ियों को रोकना सम्भव नहीं है मगर ओवरलोड को लेकर कोई प्लान जल्द ही किया जाएगा ताकि हमारी सड़कों व पुल को भारी क्षति न हो।”

“लेकिन बड़ा सवाल ये उठता है कि क्या राजस्व प्राप्त करना ही इसका विकल्प है, क्योंकि कर्मनाशा पुल के टूटने से वहाँ की व्यवस्था चरमरा गई है। इसलिए प्रशासन को इस बात को भी नजर अंदाज नहीं करना चाहिए कि चोपन पुल पर ओवरलोड वाहनों का आवागमन कम से कम हो ताकि व्यवस्था में किसी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो ।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!