सुशासन दिवस के रूप में मनाया गया स्व0 अटल जयंती

शशि चौबे / संजय केसरी (संवाददाता)

डाला । पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की 95वीं जयंती सुशासन दिवस के रूप में मनाई गई। इस अवसर पर आज डाला सरस्वती विद्या मंदिर में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारतीय जनता युवा मोर्चा के क्षेत्रीय मंत्री इन्द्रभुषण सिंह जी ने कहा सुशासन वह होता है जहां अच्छा शासन होता है।अपने विचार साझा करते हुए उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी देश के एकमात्र ऐसे नेता थे जो अपनी पार्टी में ही नहीं, विपक्षी पार्टी में समान रूप से सम्माननीय रहे।उदार, विवेकशील, निडर, सरल सहज राजनेता के रूप में जहां इनकी छवि अत्यन्त लोकप्रिय रही है, वहीं एक ओजस्वी वक्ता, कवि की संवेदनाओं से भरपूर इनका भावुक हृदय, भारतीय सांस्कृतिक मूल्यों के प्रति आस्थावान इनका व्यक्तित्व सभी को प्रभावित कर जाता था।ब्यापार मंडल अध्यक्ष मुकेश जैन जी ने कहा की अटल जी ने जहां एक तरफ कुशल संगठनकर्ता के रूप में पार्टी को सींचकर उसे अखिल भारतीय स्वरुप दिया वहीं दूसरी ओर देश का नेतृत्व करते हुए पोखरण परमाणु परिक्षण व कारगिल युद्ध जैसे फैसलों से भारत की एक मजबूत छवि दुनिया में बनाई । कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि इंद्रभुषण सिंह, संतोष सिंह,मुकेश जैन समेत अन्य लोगों ने वृक्षारोपण करके कार्यक्रम का समापन किया !
कार्यक्रम की अध्यक्षता संतोष सिंह बबलू
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रूप में धर्मेन्द्र सिंह नन्हे, कार्यक्रम का संचालन ब्यापार मंडल अध्यक्ष मुकेश जैन ने किया ।
इस अवसर पर सुभाष पाल, धिरेन्द्र प्रताप सिंह ,महेश सोनी, गोविंद, सुधीर सिंह, मनीष तिवारी, विशाल गुप्ता,अमरेश उपाध्याय,विशम्भर, अवधेश जायसवाल,अजय तिवारी, संदीप सिंह समेत सैकड़ों लोग उपस्थित थे ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!