जानिए साल 2019 में फिटनेस से जुड़ी किन चीजों को लेकर लोगों में रहा क्रेज


फिटनेस को लेकर क्रेज साल दर साल बढ़ रहा है। 2019 भी इसका गवाह रहा। जहां लोगों ने हार्ट, किडनी, लिवर, फेफड़ों से जुड़ी बीमारियों के साथ ही ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर, हायपरटेंशन के बारे में अपनी समझ बढ़ाई, वहीं फिटनेस से जुड़े कुछ नए-पुराने फंडे भी चर्चा में रहे। हेल्थ एंड फिटनेस जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार, लोग अब फिटनेस के मामले में तकनीक का भरपूर इस्तेमाल कर रहे हैं। साथ ही लोगों को योग के फायदे भी समझ आने लगे हैं। जानिए साल 2019 में फिटनेस से जुड़ी किन चीजों को लेकर लोगों में क्रेज रहा –

नई वियरेबल टेक्नोलॉजी का रहा जोर:
बाजार में कई ऐसे डिवाइस उपलब्ध हुई, जो फिटनेस में मदद करती हैं। ऐपल ऐसी स्मार्टवाच ईसीजी और हार्ट की गति से लेकर इससे संबंधित कई जानकारियां शरीर से लेकर डॉक्टर तक पहुंचा सकती है। फिटबिट से लेकर कई कंपनियों के फिटनेस बैंड काफी चर्चा में भी रहे और काफी लोगों ने इस्तेमाल भी किए। 2019 में ऐसी कई डिवाइसेस ट्रेंड में रहीं और लोगों ने हेल्थ से जुड़े उपकरण जैसे ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर मापने के यंत्र लोगों ने खरीदे, ताकि सेहत पर पैनी नजर रखी जा सके। मोबाइल फोन से लेकर अन्य मोबाइल डिवाइसेज़ में भी कई प्रकार से अपग्रेडेशन हुआ। तकनीक के इस नए दौर में पर्सनल टेक्नोलॉजी ने हेल्थ के नए आयाम छूए। MyFitnessPal, Sworkit, Aaptiv और NEOU जैसे ऐप्स ने लोगों को फिटनेस में सुधार में मदद की।

फिटनेस प्रोग्राम :
लोगों को हमेशा ऐसे फिटनेस प्रोग्राम की तलाश रहती है, जो उनकी जरूरत के अनुसार है। खासतौर पर सीनियर सिटीजन में इसकी सबसे ज्यादा जरूरत रही। ऐसे फिटनेस प्रोग्राम की तलाश की गई, जिसमें व्यायाम के साथ खान-पान की जरूरत भी शामिल हो। महिलाओं में भी इसका क्रेज रहा।

वजन पर काबू पाने के तौर-तरीके:
बढ़ता वजन महामारी का रूप धारण कर चुका है और बहुत बड़ी आबादी इससे परेशान है। हर कोई बढ़ते वजन पर काबू पाना चाहता है। यही कारण है कि इस साल लोगों में बॉडीवैट ट्रेनिंग का क्रेज रहा। ऐप्स, गैजेट्स और ऑनलाइन क्सालेस ने लोगों को मदद की। मोबाइल पर वीडियो देख कर कई लोगों ने सेहत संबंधी समस्याओं को सुलझाने का भी प्रयास किया। हालांकि कोई वीडियो किसी डॉक्टर का विकल्प नहीं हो सकता लेकिन डिजिटल टेक्नोलॉजी ने लोगों को कई बुनियादी बातें समझाने में मदद की।

वर्कआउट:
वर्कआउट के कई तरीके हैं और हर कोई अपनी जरूरत के हिसाब से चयन करता है। युवाओं में जहां ज्यादा पसीना बहाने वाले वर्कआउट का क्रेज रहा, वहीं उम्रदराज लोगों ने हल्के फुल्के स्टेप्स से सेहतमंद रहने का तरीका चर्चा में रहा। वर्चुअल ट्रेनिंग और कोचिंग का क्रेज बढ़ा। Endomondo जैसी ऐप्स घर में ही फिटनेस ट्रेनिंग सेशन का अनुभव कराती है।

हेल्दी फूड:
लोग समझ चुके हैं कि फिट रहने के लिए एक्सरसाइज के साथ ही हेल्दी फूड भी जरूरी है। यही कारण है कि पौष्टिक खाद्य पदार्थ चर्चा में रहें। खासतौर पर डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर वाले मरीजों में इस बात पर खास चर्चा रही कि वे क्या खास कर सकते हैं और क्या नहीं? इसी तरह डायटिंग के नए तौर-तरीके चर्चा में रहे जैसे एक दिन छोड़कर उपवास या दिन में 10 घंटे के अंतराल में कुछ खाना। कई प्रकार के नॉलेज ऐप्स, कैलोरी काउंटर और हेल्दी रेसिपी ऐप्स ने लोगों के खान-पान को बदला।

घरेलू इलाज:
बड़ी-बड़ी बीमारियों का इलाज घर पर ही मिल जाए, इससे अच्छा कुछ नहीं। इस साल डायबिटीज, हायपरटेंशन, हड्डियों की मजबूती, कोलेस्ट्रॉल जैसी बीमारियों के लिए घरेलू इलाज चर्चा में रहा।

होम जिम:
जिम जाने के क्रेज बढ़ा है, लेकिन वक्त की कमी के चलते लोग अपने घर को ही जिम बनाने लगे हैं। ट्रेडमिल और साइकिलिंग के उपकरण अब आधुनिक डैशबोर्ड के साथ घर में भी मिलने लगे हैं। Peloton bikes इसी स्मार्ट टेक्नोलॉजी का एक उदाहरण है। Tangran Smartrope का एलईडी डिस्प्ले आपके वर्काआउट की पूरा डाटा देता है। Ozmo Active Smart Bottle आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होने देती। JaxJox KettlebellConnect पूरे शरीर के वर्कआउट का फायदा देती है। Withings Body Cardio आपका वजन तौलने की एक ऐसी वेइंग स्केल है जो बॉडी फैट यानी शरीर की चर्बी, बोन मास, हार्ट रेट और वाटर वैट की भी जानकारी देती है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!