नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका का आया बड़ा बयान

नागरिकता संशोधन कानून और नेशनल रजिस्टर ऑफ सीटिजन को लेकर जहां देश के कई शहरों में हिंसक विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं वहीं अमेरिका का बड़ा बयान सामने आया है। अमेरिका के एक शीर्ष अधिकारी ने भारत में नागरिकता कानून को लेकर हो रहे विरोध पर कहा है कि हम सक्रिय राजनीतिक बहस देख रहे हैं, संसद में हो रही चर्चा पर को भी देख रहे हैं, लोगों का विरोध प्रदर्शन पर भी हमारी नजर है, हम जानते हैं कि एनआरसी को लेकर न्यायिक प्रक्रिया चल रही है।

इसके अलावा अमेरिका ने यह भी कहा कि हम भारत की लोकतांत्रिक संस्थाओं और मूल्यों का सम्मान करते हैं। एक बड़े लोकतांत्रिक देश के रूप में भारत को अल्पसंख्यक अधिकारों, धार्मिक स्वतंत्रता, मानवाधिकार के आसपास के मुद्दे के रूप में महत्वपूर्ण स्तंभ हैं।

एक दिन पहले ही एक शीर्ष अमेरिकी राजनयिक ने कहा है कि नागरिकता और धार्मिक स्‍वतंत्रता जैसे मुद्दों पर देश (भारत) के अंदर एक मजबूत बहस चल रही है। अमेरिका के इस जवाब से भारत का पड़ोसी मुल्‍क पाकिस्‍तान जरूर मायूस हुआ होगा। पाकिस्‍तान, भारत पर लगातार एक समुदाय के उत्‍पीड़न का आरोप लगाता रहा है। बता दें भारत और अमेरिका के बीच 2 + 2 मंत्री स्तरीय बातचीत चल रही है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एवं विदेश मंत्री जयशंकर इस समय अमेरिका में है।

बता दें नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में गुरुवार को प्रदर्शन देखने को मिला। नागरिकता कानून को लेकर हो रहे विरोध से गुरुवार को दिल्ली ठप हो गई तो देशभर में विरोध और तेज हो गया। इस दौरान दिल्ली, यूपी समेत 10 राज्यों में प्रदर्शन और हिंसक घटनाएं हुईं। दिल्ली, यूपी और कर्नाटक समेत कई जगहों पर हिंसक झड़प में कई लोग घायल हो गए और कई सारे लोगों को हिरासत में लिया गया।

बता दें कि गुरुवार को वामदलों और कुछ मुस्लिम संगठनों ने भारत बंद का आह्वान किया था, जिसका पूरे देश भर में मिला-जुला असर देखने को मिला। दिल्ली में न सिर्फ जोरदार प्रदर्शन देखने को मिला, बल्कि मेट्रो बंद होने और लंबा जाम लगने से जीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया। वहीं, लखनऊ व संभल को छोड़कर अन्य जिलों में धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा। लखनऊ में उपद्रव के दौरान एक दर्जन वाहनों में आगजनी व तोड़फोड़ की गई। इस दौरान लखनऊ में 16 और संभल में दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। कर्नाटक में दो लोगों की मौत हो गई और लखनऊ में एक की मौत की खबर है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!