बारिश से बर्बाद हुई फसल का किसानों को दिया जाय उचित मुआवजा : ऊर्जा राज्य मंत्री

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । बारिश ने किसानों को रुलाया खून के आंसू। जनपद में गुरुवार से हो रही बारिश ने किसानों की गाढ़ी मेहनत को पानी में डूबो दिया। ग्रामीण क्षेत्र के किसानों के किसानों की पीड़ा को देखते हुए ऊर्जा राज्यमंत्री एवं मड़िहान विधायक रमाशंकर सिंह पटेल ने सुबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर किसानों के खेत, खलिहान में खराब हुए धान एवं धान की फसल की उचित मुआवजा किसानों को दिलवाने के बारे में विस्तार से चर्चा किया। उसके बाद मिर्जापुर जिला अधिकारी सुशील कुमार पटेल को भी निर्देशित किया कि बारिश में किसानों के बर्बाद हुए खेत एवं खलिहान में धान व धान की फसल का आकलन करके क्षेत्र के किसानों को उचित मुआवजा दिलाया जाए। बता दें कि बारिश ने जहां खेतों में पड़ी फसल को बर्बाद कर दिया, वहीं सिवानों व क्रय केंद्रों के बाहर खुले में पड़े धान भी तीन दिनों से बारिश से भींग रहे है। बृहस्पतिवार की रात जैसे ही बारिश शुरू हुई, किसान परिवारों में मायूसी छा गई। प्रत्येक किसान आसमान की ओर देखते हुए बस इतनी गुजारिश कर रहा था कि कुछ दिन मौसम यूं ही संभल जाए तो वे अपनी मेहनत को घर ले आते, लेकिन प्रकृति ने भी किसानों का साथ नहीं दिया और पूरी रात झमाझम बारिश हुई और यह सिलसिला शनिवार की अलसुबह तक अनवरत चला। वहीं किसानों ने खुद के प्रयासों से अपनी उपज को समेटने और उसे ढकने में पूरी शिद्दत से लगे रहे, लेकिन अपनी फसल को नहीं बचा पाए। कुछ किसान अपनी फसल को अपने आंखों के समक्ष बर्बाद होता देख रो पड़े। बारिश उनपर वज्रपात की तरह गिरी है, किसान इस बात पर जोर देते दिखे कि यदि प्रशासन ने किसानों की मदद की होती तो ऐसी बर्बादी को रोका जा सकता था। फसल को बचाने में जुटे किसान जनपद में हो रही बारिश किसानों के लिए अभिशाप बन गई है। खेतों में पड़ी धान की फसल बर्बाद होने के कगार पर पहुंच गई है, लेकिन किसान अभी भी फसलों को बचाने की उम्मीद नहीं छोड़ रहा है। शनिवार को मौसम के थोड़ी राहत दिए जाते ही किसानों की चहल-पहल खेतों में दिखाई देने लगी। किसान खेतों में लगे पानी में धान की फसल को निकालकर बचाने में जुट गए।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!