भाजपा नेता आकाश सक्सेना जिन्होंने की थी अब्दुल्लाह आजम की शिकायत

सपा सांसद आजम खान के विधायक बेटे अब्दुल्लाह आजम का कोर्ट ने आज एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए नामांकन रद्द कर दिया है । भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने इसकी शिकायत की थी कि विधानसभा चुनाव के नामांकन के दौरान अब्दुल्ला आज़म ने जन्म के प्रमाण नहीं लगाए थे इसी को लेकर कोतवाली सिविल लाइंस में उन्होंने एक मुकदमा दर्ज कराया था जिसका मामला कोर्ट में विचाराधीन था जिस पर अब कोर्ट ने उनकी शिकायत को सही मानते हुए उनके विधानसभा चुनाव के नामांकन को रद्द कर दिया है अब्दुल्लाह आजम के नामांकन रद्द होने से जहां एक और भाजपा खेमे में खुशी है तो वहीं दूसरी ओर सपा खेमे में इसके खिलाफ कहीं न कहीं गम का माहौल है

वियो वही इस मामले के मुख्य शिकायतकर्ता भाजपा नेता आकाश सक्सेना से हमने बात की तो उन्होंने बताया 27 अगस्त 2017 को मैंने जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी द्वारा मैंने एक शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें में 2017 के चुनाव में जो अब्दुल्ला ने नामांकन किया था वह पूरी तरह गलत था उसमें कोई भी जन्म का प्रमाण पत्र नहीं लगा हुआ था जबकि उसमें 10th की मार्कशीट को लगाना चाहिए था क्योंकि वह 25 साल के नहीं थे इसलिए आजम ने उन्हें चुनाव लड़ाया और विधायक बनाया इन्होंने 10th की मार्कशीट के जगह अपना एक फर्जी पैन कार्ड लगाया के बाद ही मामला कोर्ट में पहुंचा । इसके बाद मैंने इनके दो जन्म प्रमाण पत्र जिन्होंने बनवा रखे थे एक लखनऊ से एक रामपुर से वह मैंने कोर्ट में जमा किए इनके पास दो पेन कार्ड थे दो पासपोर्ट है इन्हीं सब चीजों को देखते हुए कोर्ट ने आज अपना एक ऐतिहासिक फैसला दिया है मेरी अब कोर्ट से यह मांग है कि अब्दुल्लाह आजम का निर्वाचन रद्द ही नहीं बल्कि 20 साल तक चुनाव ना लड़ने का आदेश भी देना चाहिए ।
बाइट आकाश सक्सेना भाजपा नेता



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!